" कठपुतली " 
July 30, 2019 • डॉ दीपा शुक्ला 
" कठपुतली " 
सुन्दर  ,
सुशिक्षित , 
नौकरीपेशा , 
पाककला व 
अतिथि सत्कार में दक्ष 
पत्नी , बहू , माँ 
कोई मांग नहीं 
न वस्त्र ,न आभूषण 
क्योंकि, 
सामान्य स्त्री से परे ।
मिलता है 
बाँहों का हार , 
चुंबन कर्णफूल 
अंकपाश सम्पूर्ण श्रंगार
परन्तु ; उपेक्षित
क्योंकि
परिवार की कसौटी पर 
खरी नहीं ।
उन्हें चाहिए ....
पत्नी ? नहीं ....
जीवन साथी ? नहीं ....
हमराही ? नहीं .....
इशारों पर नाचने वाली 
" कठपुतली ....." ।
डॉ दीपा शुक्ला 
लखीमपुर खीरी 
उ .प्र .