अमेरिकी अधिकारियों का दावा खशोगी ही नहीं, कई विरोधी हुए हैं सऊदी प्रिंस का शिकार
March 18, 2019 • कार्तिक

वाशिंगटन। सऊदी पत्रकार जमाल खुशोगी इकलौते व्यक्ति नहीं थे, जिन्हें सऊदी प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान का विरोध करने के कारण जान गंवानी पड़ी। सऊदी प्रिंस ने अपने कई विरोधियों को शिकार बनाया है। उनके इशारे पर कई सऊदी नागरिकों की जासूसी की गई। कई विरोधियों का अपहरण कर उन्हें प्रताड़ित भी किया गयाखुफिया दस्तावेजों के हवाले से अमेरिकी अधिकारियों ने यह दावा किया है। अमेरिकी अधिकारियों और कुछ पीड़ितों के करीबियों का कहना है कि प्रिंस सलमान ने अपने विरोधियों को दबाने की मुहीम चलाई हैखशोगी की हत्या इसी अभियान का हिस्सा थी। जिन लोगों ने खुशोगी की हत्या कर उनके शव के टुकड़े किए थे, वे सऊदी प्रिंस के कई अन्य विरोधियों को खत्म करने में भी शामिल रहे हैं। जिस टीम के लोगों ने खुशोगी की हत्या की, उसे अमेरिकी अधिकारियों ने सऊदी रैपिड इंटरवेंशन ग्रुप नाम दिया है। 2017 से अब तक इस टीम ने ऐसी करीब दर्जनभर घटनाओं को अंजाम दिया हैकुछ मामलों में विरोधी को अन्य अरब देशों से जबर्दस्ती प्रत्यर्पित कराया गया और हिरासत में ले लिया गया। विरोधियों को प्रिंस के महल में लाकर प्रताड़ित किया गया। अमेरिका की खुफिया रिपोर्ट के मताबिक, सऊदी में महिलाओं की स्थिति पर ब्लॉग लिखने वाली एक यूनिवर्सिटी लेक़रर भी इस ग्रुप की शिकार हुई थी। प्रताड़ना से त्रस्त होकर उसने पिछले साल आत्महत्या करने की कोशिश भी की थीयह रैपिड इंटरवेंशन ग्रुप अपने काम से इतना उत्साहित था कि उसने एक करीबी के जरिये सऊदी प्रिंस से ईद पर अपने लिए बोनस भी मांगा थाइंटरवेंशन ग्रुप ने आदेश मिले बिना कर दी थी खुशोगी की हत्या सऊदी सरकार का कहना है कि अमेरिका में रहने वाले पत्रकार खुशोगी की हत्या का आदेश प्रिंस ने नहीं दिया था।