आदर्श चुनाव आचार संहिता के अनुपालन पर सतत नजर रखें अधिकारी : रितु माहेश्वरी
March 25, 2019 • कमलेश पांडे
गाजियाबाद। सोमवार को जिला निर्वाचन अधिकारी सह जिला मजिस्ट्रेट रितु माहेश्वरी ने कलेक्ट्रेट सभागार में सभी विभागों के नोडल अधिकारियों के साथ निर्वाचन कार्यों की समीक्षा की। इस मौके पर श्रीमती माहेश्वरी ने सभी नोडल अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि समस्त अधिकारीगण निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान अपनी अपनी ड्यूटी निर्वाचन आयोग के निर्देशों का अक्षरशः  पालन सुनिश्चित करते हुये निर्वाचन कार्य को पूर्ण कराने की कार्यवाही सुनिश्चित करेंगे।
जिलाधिकारी ने अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देश दिये कि निर्वाचन सम्बन्धी विभिन्न माध्यमों, यथा- कन्ट्रोल रूम, सी बिजिल ऐप द्वारा जो शिकायतें प्राप्त हो रही है, उन्हें निर्धारित समय अवधि के अन्दर निस्तारण कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने दो टूक कहा कि किसी भी स्थान पर आर्दश आचार संहिता का उल्लघंन होता पाया गया तो सम्बन्धित अधिकारीगण उत्तरदायी होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि एफएसटी टीम द्वारा प्रत्येक गाड़ी (परिवार वाली) को अनावश्यक रूप से परेशान न किया जाये एवं पोस्टर, बैनरों पर भी नजर रखी जाये। उन्होंने कहा कि जो भी टीम कार्य कर रही है, वो सभी उपजिलाधिकारियों की निगरानी में रहें। 
जिलाधिकारी ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में टी-शर्ट वितरित करने की शिकायत आयी है, जिसकी इंक्वायरी करायी जाए। वीडियो निगरानी टीम द्वारा जो वीडियो शूट की गयी है, वह उस दिन ही सम्बन्धित अधिकारी या उनके द्वारा अधिकृत व्यक्ति को प्रदान करा दी जाए। उन्होंने अपेक्षा जताई कि भारत निर्वाचन आयोग के अनुरूप निर्वाचन प्रक्रिया पारदर्शी है। इसलिये सभी टीमें पारदर्शिता के साथ कार्य करें। उन्होंने आगे कहा कि निरीक्षक टीम भी अपनी सक्रियता बढ़ाएं। उन्होंने  निर्देशित किया कि नगर निगम के अधिकारी व अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद, एफएसटी व एसएसटी टीम की निगरानी करते रहें। सोशल मीडिया पर पैनी नजर रखें। 
जिलाधिकारी ने आगे निर्देशित किया कि हल्के वाहनों की जिले में कमी हो रही है, इसलिये सभी विभाग अधिग्रहण आदेश आने से पहले ही अपने अपने वाहन निर्वाचन कार्य हेतु प्रदान कर दें। संवेदनशील व अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों की सूची सभी तहसीलोंं को उपलब्ध करा दें। पोलिंग पार्टी हेतु 3300 बैग तैयार किये गये हैंं। तीन सूचियां भी उन बैगों में रहनी चाहिये। 
इस मौके पर अपर जिलाधिकारी भूअ ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि ईवीएम के प्रथम रैडमाइजेशन के उपरान्त स्ट्रॉग रूम सील कर दिया गया है। निर्वाचन में जीडीए, नगर निगम, नगर पालिका, व्यापार कर, ऑडिनेंश फैक्ट्री व बेसिक शिक्षा विभाग का स्टाफ सबसे अधिक कार्यरत हैं। ईवीएम के द्वारा उसको प्रशिक्षित किया जाये तथा दो-दो ईवीएम तहसील हेतु प्रशिक्षण हेतु प्रदान की जाये। उन्होंने बताया कि आगामी 31 मार्च के बाद पोलिंग पर्सनल का रैडमाइजेशन होगा। जिसकी सूचना राजनीतिक दलों को भेज दें।  
बैठक में जिलाधिकारी ने जानकारी दी कि 10 प्रतिशत मतदेय स्थलों पर वैब कास्टिंग की जाएंगी। 167 मतदेय स्थलों की वीडियोग्राफी करायी जायेगी। बड़े मतदान केन्द्रों पर माइक्रो आर्ब्जर व 150 वीडियो कैमरे रहेंगे। 5 बूथ पर एक माइक्रो आर्ब्जर तैनात रहेगा। उन्होंने  अधिकारियों को निर्देशित किया कि मतदेय स्थलों व मतदान केंद्रों पर पायी गयी कमियों, जैसे- विद्युत, रैंप, पेयजल, बूथ नम्बरिंग, मोबाईल टॉयलेट जैसी मूलभूत सुविधाएं बेसिक शिक्षा विभाग, नगर निगम व नगर पालिकाएं 31 मार्च तक पूर्ण करा दें। मतदेय स्थलों पर अवशेष निर्माण सामग्री नहीं होनी चाहिए। मतदाता पहचान पत्र मंगलवार सायं तक वितरित कर दिये जाएं। सभी विभाग अवशेष कार्य जल्द से जल्द समाप्त कर दें।
      बैठक में मुख्य विकास अधिकारी रमेश रंजन, अपर जिलाधिकारी वि-रा, अपर जिलाधिकारी नगर, अपर जिलाधिकारी प्रशासन, नगर मजिस्ट्रेट, मुख्य कोषाधिकारी व सभी नोडल अधिकारी उपस्थित रहे।