आधुनिक दधीची मनोहर पर्रिकर
March 29, 2019 • आर.के.सिन्हा

                                    (आर.के.सिन्हा)

मनोहर पर्रिकर का भौतिक शरीर भले ही अब हमारे बीच न रहा हो, पर वे सदियों तक इस देश के आमजन के दिलों में निवास करते रहेंगे। दर्दनाक और जानलेवा पैंक्रियाटिक कैंसर जैसे असाध्य रोग से लड़ते हुए भी पर्रिकर का जीवन के अंतिम पलों तक देश की सेवा करते रहना वास्तव में अनुकरणीय है। उन्होंने देश सेवा की एक इस तरह की नजीर सामने रखी है,जिसकी बराबरी करना आसान नहीं होगा । उन्होंने ईमानदारी और सादा जीवन व्यतीत करते हुए जीवनभर देश सेवा की। इस लिहाज से वे डॉ. राजेंद्र प्रसाद, दीन दयाल उपाध्याय, लाल बहादुर शास्त्री,जय प्रकाश नारायण और कर्पूरी ठाकुर की परम्परा के नेता बन गए हैं। पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक के संबंध में जब पत्रकारों ने उन से पूछा कि इतनी हिम्मत कहाँ से आई? तब उन्होंने जवाब दिया था संघ शिक्षा और संघ संस्कारों की बदौलत कम हम सर्जिकल स्ट्राइक कर पाएI वे निडर थे।  पर्रिकर का राष्ट्रीय सेवक संघ से संबंध बचपन से ही था। वे अपने आपको स्वयंसेवक बताने में गर्व महसूस करते थे। वे मानते थे कि संघ की शिक्षा इंसान को सादगी सिखाती है, सीमित संसाधनों में काम करना सिखाती है, संघ संस्कार से व्यक्तित्व का निर्माण होता हैंIहर बुराई से दूर कर एक ईमानदार राष्ट्र भक्त और कर्मठ व्यक्ति का निर्माण होता है । 

 पर्रिकर में ये सभी गुण विद्यमान थे, बल्कि, इतने अधिक गुण थे कि वे दूसरों को भी तत्काल ही प्रेरित करते थे । मनोहर पर्रिकर की सादगी का हर कोई कायल था। वे एक बार अपनी स्कूटी से गोवा स्थित अपने मुख्यमंत्री सचिवालय जा रहे थे। रास्ते में उनको एक कार ओवरटेक करके तेज़ गति से  निकली। वह कार थोड़ी दूरी पर रेड लाइट पर रुकी। पर्रिकर उसके पास पहुँचे और उसके ड्राइवर से बोले बेटा आराम से चलाया करो।वो कार चलाने वाला युवक पर्रिकर जी को पहचान नहीं पाया और अपने पैसे का रौब झाड़ते हुए बोला आप जानते हों मैं क़ौन हूँ? ” पर्रिकर जी ने जवाब दिया- मैं नहीं जानता कि आप कौन हैं ?”तब उस युवक ने कहा मैं यहाँ के पुलिस एस.पी. का बेटा हूँ ।ये सुनकर पर्रिकर मुस्कुराये और बड़ी शालीनता से बोले  मैं यहाँ का मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर हूं। गोवा का मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री आवास में रहने से मना कर दिया था और खुद के एक छोटे से घर में रहते थे। यहां पर उनकी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से तुलना करते हुए ठीक नहीं लग रहा है। पर केजरीवाल ने भी कहा था कि वे सत्ता मिलने पर साधारण घर में ही रहेंगे। पर उन्होंने भव्य सरकारी बंगला ले ही लिया। इसी प्रकार, रक्षा मंत्री रहते हुए भी उनकी कोठी में न कोई गर्द न तामझाम I कई बार में उनके यहाँ चाय  पीने गया I एक दम सादा जीवन उच्च विचार I

 बहरहाल, पर्रिकर 24 अक्तूबर 2000 को पहली बार गोवा के मुख्यमंत्री बने थे। मुख्यमंत्री  पद संभालने से ठीक पहले उनकी पत्नी की कैंसर से मौत हो गई। लिहाजा पर्रिकर के ऊपर अपने दो बच्चों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी भी आ गई।  वे अपने बच्चों के लिए माता-पिता दोनों थे। वे किसी सूबे का मुख्यमंत्री बनने वाले पहले आइटियन थे। उन्होंने साल 1978 में आईआईटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की थी। वे और आधार कार्ड के जनक नंदन नीलेकणी आईआईटी में ही सहपाठी थे। पर्रिकर चाहते तो वे भी देश में या विदेशों में कहीं भी किसी बड़ी कंपनी में काम कर खूब कमा सकते थे I ठाठ बाट से रह सकते थे I उन्होंने तो गोवा और देश के सेवा की ठान ली थी और जीवन भर सेवा व्रती का ही जीवन बिताया I

गोवा जैसे छोटे से राज्य से संबंध रखने के बावजूद  मनोहर पर्रिकर ने अपने को अपने कार्यों और शालीन व्यवहार के बल पर देश के शीर्ष और आदरणीय नेताओं में शामिल करवा लिया था।  निर्विवाद रूप से रक्षा मंत्री के रूप में, गोवा के कर्तव्यनिष्ठ मुख्यमंत्री के रूप में, उन्होंने जो सादगी और ईमानदारी की मशाल जलाई है, वह इस देश में कभी अंधेरा नही होने देगी।

सचमुच मनोहर पर्रिकर आधुनिक दधीचि ही थे, जिन्होंने प्रदेश और देश की सेवा में अपनी हड्डियां गला दी। सेना के आधुनिकीकरण में उनका योगदान अविस्मरणीय है। सादगी और ईमानदारी में लाल बहादुर शास्त्री जी की परम्परा  के नेता पर्रिकर दृढ़ निश्चयी थे सरदार पटेल की तरह। आज जब देश को उनकी सबसे ज्यादा आवश्यकता थी तब वे देशवासियों को बिलखता छोड़ गए।

आज सर्जिकल स्ट्राइकहरेक हिन्दुस्तानी बोलता रहता है। ये दो शब्द मनोहर पर्रिकर ने ही देश को दिए।उरी हमले के बाद भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक के जरिये एलओसी पार कर पाकिस्तान में आतंकियों के शिविरों को नेस्तनाबूद किया था। इसने सादगी के लिए मशहूर मनोहर पर्रिकर की मजबूत नेतृत्व और कुशल प्रशासक की छवि को पुख्ता किया। उन्होंने रक्षा मंत्री के तौर पर अपने कार्यकाल में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के सर्जिकल हमले का श्रेय भी संघ की शिक्षा को दिया था। वे 9 नवंबर 2014 से 13 मार्च 2017 तक  देश के रक्षामंत्री रहे। यह वही काल था जब भारतीय सेना ने म्यांमार की धरती पर जाकर भी आतंकियों का सफाया किया था। इसी दौरान 29 सितंबर 2016 भी आया जब भारतीय सेना के जांबाजों ने गुलाम कश्मीर  में घुसकर आतंकियों के ट्रेनिंग कैंपों पर हमला किया। भारत के वीर जवानों ने एलओसी पार की और गुलाम कश्मीर में घुसकर न सिर्फ आतंकी कैंपों को ध्वस्त किया और आतंकियों को मौत के घाट उतारा, बल्कि सुरक्षित वापस भी लौट आए।

दुनिया जिसे एक राजनेता, एक मुख्यमंत्री, एक रक्षा मंत्री के रूप में जानती हैं असल मे वह अपने को सदा संघ के एक अनुशासित स्वयंसेवक ही मानते रहे Iचाहे मुख्यमंत्री  रहे हों या रक्षामंत्री वे हमेशा बिना मीडिया की परवाह किये बिना किसी डर या दबाव के बाकायदा संघ गणवेश में ही शाखा जाते थेIसंघ में उन्हें एक बेहतरीन स्वयंसेवक के रूप में जाना जाता था, बेहद अनुशासित, बेहद ईमानदार, देश के लिए मर मिटने का जज़्बा और सरल व्यक्तित्व बिल्कुल एक संघ प्रचारक के जैसा। उन्होंने अपने व्यक्तित्व और अपनी सफलता का श्रेय हमेशा संघ  की विचारधारा, संघ शिक्षा, संघ संस्कारों को दिया।

 मनोहर पर्रिकर के जीवन से भारत की आने वाली पीढ़िया निस्वार्थ भाव से समाज और देश सेवा की प्रेरणा लेती रहेंगी। ये भारत का सौभाग्य है कि इस देश में अब भी मनोहर पर्रिकर की तरह के संत पुरुष समाज सेवा में सक्रिय हैं।

  (लेखक राज्य सभा सदस्य हैं)