उपराज्यपाल अनिल बैजल ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 25 उत्कृष्ट शिक्षकों को किया सम्मानित
September 5, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

                   #उत्तरी दिल्ली नगर निगम में शिक्षक दिवस का आयोजन

उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर निगम मुख्यालय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सिविक सेंटर स्थित केदारनाथ साहनी ऑडिटोरियम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

            इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में दिल्ली के उपराज्यपाल माननीय श्री अनिल बैजल विशिष्ट अतिथि के तौर पर उत्तरी दिल्ली के महापौर अवतार सिंह, उपमहापौर योगेश वार्मा, स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश, नेता सदन  तिलक राज कटारिया,निगम पार्षद जोगी राम जैन, रमेश कुमार, पूर्व महापौर महेश चंद शर्मा, सदस्य शिक्षा समिति, ममता नगपाल, रघुवंश सिंघल, आयुक्त वर्षा जोशी, अति. आयुक्त डॉ जयराज नायक, निदेशक (शिक्षा) एम.ए. रहमान उपस्तिथ थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता शिक्षा समिति कि अध्यक्षा ऋतु गोयल ने की।

कार्यक्रम में माननीय उपराज्यपाल अनिल बैजल ने 4 प्रधानाचार्य, 18 शिक्षक, 1 शारीरिक शिक्षा व 2 नर्सरी शिक्षकों सहित 25 शिक्षको को सम्मानित किया गया। सम्मान स्वरूप शिक्षकों को 7 हजार रूपये की राशि व प्रशस्ति पत्र व प्रतिक चिन्ह प्रदान किये गए। कार्यक्रम में शिक्षा विभाग द्वारा प्रकाशित परिचायिका का विमोचन भी किया गया।

इस अवसर पर माननीय उपराज्यपाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति में हमेशा से गुरू का अहम योगदान रहा है, गुरू को सर्वोपरि माना गया है। उन्होंने कहा कि बच्चे रबड़ कि तरह होते है, शिक्षक उन्हें किसी भी रूप में ढाल सकते है, शिक्षकों में वह दम है कि वे बच्चो में विद्यमान प्रतिभा को किसी भी क्षेत्र में निखार कर उत्कृष्ट बना सकते है। उन्होंने कहा कि आज छोटे-छोटे शहरो के बच्चे भी हर क्षेत्र में आगे निकल रहे है। उन्होंने कहा कि निगम के शिक्षकों कि बच्चो के प्रति ज्यादा जिम्मेदारी है, उन्हे हमेशा यह कोशिश करनी चाहिए की बच्चो को उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने को प्रोतसाहित करे जिस में उनकी रूचि है।उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर निगम के सभी शिक्षकों व बच्चो को बधाई व शुभकामनाएं दी।  

महापौर अवतार सिंह ने कहा कि शिक्षक समाज का स्तम्भ है वो चाहे तो अंधेरे को उजाले में बदल सकते है। उन्होंने कहा कि निगम शिक्षकों द्वारा इस कर्तव्य का निर्वाह बखूबी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज वे जो भी है उस में उनके शिक्षकों का अहम योगदान है। 

उपमहापौर  योगेश वर्मा ने ने सभी पुरस्कृत शिक्षकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि निगम विद्यालय द्वारा सभी वर्गों के बच्चों को शिक्षा की प्राप्ति हो रही है जो केवल शिक्षको के द्वारा ही संभव है।

स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने शिक्षक दिवस के अवसर पर निगम के सभी शिक्षकों व बच्चो को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि शिक्षक का हर बच्चे के जीवन में अहम योगदान होता है।  उन्होंने कहा कि निगम का हर शिक्षक, हर बच्चा विशेष प्रतिभा रखता है, हमारे निगम विद्यालय किसी भी निजी विद्यालय से कम नही है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक शिक्षा ही बच्चों के शिक्षा की नींव बनाता है जिसमे निगम विद्यालय तत्पर है। उन्होंने कहा कि निगम विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चे भविष्य में देश का, राज्य का नेतृत्व करेगे, जो समाज में बदलाव लाएगे।

नेता सदन तिलक राज कटारिया ने कहा कि निगम 700 प्राथमिक विद्यालयों के माध्यम से 3,36,000 बच्चो को निशुल्क शिक्षा प्रदान कर रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षक रेगिस्तान में भी हरियाली ला सकते है। उन्होंने कहा कि शिक्षक केवल ज्ञाता नही है बल्कि देश के भविष्य के निर्माता भी है।

इस अवसर पर निगमायुक्त वर्षा जोशी ने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम अपने लक्ष्यों की शत प्रतिशत प्राप्ति के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम 700 प्राथमिक विद्यालयों, 21 अनुदान प्राप्त विद्यालयों व 117 अनुदान रहित मान्यता प्राप्त विद्यालयों के माध्यम से 3,36,000 बच्चों को नि शुल्क शिक्षा प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम बच्चों के लिए शैक्षिक यात्रा, दिल्ली दर्शन, भारत भ्रमण आयोजित करती है। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम बच्चों को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें, कॉपियां एंव डायरी उपलब्ध कराती है।कार्यक्रम में शिक्षकों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति की गई।