कैसे हो जल जमाव का समाधान
June 29, 2019 • हर्ष शर्मा

(हर्ष शर्मा)

भारत में हर राज्यों में जल जमाव सबसे बड़ा मुद्दा है। जल भराव के कारण स्कूल, कॉलेज, कार्यालय और प्रमुख रूप से यातायात व्यवस्था प्रभावित होती है। स्कूल या कॉलेजों में जाने वाले छात्र शायद इन दिनों को छुट्टियों कि तरह मना सकते हैं, लेकिन यह उन लोगों के लिए बहुत दुखदायी है, जो रोजाना ऑफिस जाते हैं या कोई व्यक्ति इमरजेंसी में अस्पताल जाता है और सड़क पर पानी जमा होने के कारण या ट्रैफिक जाम के कारण सही समय पर अपने गंतव्य पर नहीं पहुंच पाता है। खराब जल निकासी व्यवस्था के कारण देश के लोग हमेशा पीड़ित होते हैं।
कभी-कभी तो यह ज्यादातर तब होता है जब जल बाढ़ के कारण सभी घरों के फर्नीचर और उनके सामानों को नुकसान होता है।
तूफान का पानी, या अतिरिक्त पानी जो अवशोषित नहीं होता है, वहीं जल जमाव का कारण बनता है। उदाहरण के लिए, एक जंगल में बारिश की किसी भी मात्रा को नरम पृथ्वी और पेड़ों द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है, लेकिन एक शहर में जहां अधिकांश सतहें ठोस हैं, वहा अत्यधिक बारिश शहर को अवशोषित करने के लिए बहुत अधिक तूफान का पानी उत्पन्न करती है। शहर की नालियों को सड़कों पर तूफानी पानी के प्रवाह के लिए उपयुक्त माना जाता है - लेकिन नालियों को कुशलतापूर्वक काम करने के लिए उन्हें अच्छी तरह से बनाए रखने और नियमित रूप से साफ करने की आवश्यकता होती है। नालियाँ हमारे घरों के कचरे, गिरे हुए पत्तों, धूल और मलबे से बर्बाद हो जाती हैं। बड़े शहरों में प्लास्टिक हमेशा से नालियों को रोकने का कार्य करते हैं, जिससे पानी ओवरफ्लो होता है।
हर शहर की अपनी अनूठी चुनौतियां हैं। मुंबई, चेन्नई और कोलकाता जैसे तटीय शहरों में, अगर उच्च ज्वार के दौरान भारी बारिश होती है, तो ज्वार के कारण शहर में पानी वापस आ जाता है, जिससे जल जमाव हो जाता है। अत्याधुनिक वर्षा पूर्वानुमान प्रणाली की कमी पहले जल जमाव का कारक हो सकती थी, लेकिन भारत ने हाल ही में अपनी मौसम तकनीक को अद्यतन किया और जल जमाव का दोष अब राज्य के नगर निगमों की अपरिपक्वता पर पड़ा है। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण तब देखा गया जब तूफान फानी और वायु के समय इस तकनीक का उपयोग बेहद ही उपयुक्त रूप से लिया गया।
कचरा फेंकना बंद करें, खासकर प्लास्टिक, गैर-जिम्मेदाराना हरकत है, यह हमारे हाथ में है, सरकार सिर्फ मदद कर सकती है और कुछ नहीं। शहर के ड्रेनेज सिस्टम पर बोझ को कम करने के लिए सरकार के कचरे के निपटान प्रणाली का पालन करें, घर पर अपना कचरा इकट्ठा करें और शहर में नगरपालिका के कचरे के कूड़ेदान का ही उपयोग करे। हर छोटी से छोटी बात जैसे की प्लास्टिक की बोतल को खिड़की से बाहर नहीं फेंके। पेड़ भी मदद का कार्य करते हैं। पेड़ मिट्टी से अतिरिक्त पानी सोखते हैं, इसलिए विशिष्ट क्षेत्रों में रणनीतिक रूप से पेड़ लगाते हैं, और आम तौर पर वनीकरण, हमारे शहरों में अचानक बाढ़ और जल भराव को कम करने में मदद कर सकते हैं।
हम सभी ने उत्तराखंड और केरल जैसे राज्यों की बाढ़ देखी है, इस घटनाओं से हमें यह समझने और सीख लेने की जरूरत है कि हम ऐसी प्राकृतिक आपदाओं से कैसे बच सकते हैं। हमें बेहतर जल निकासी प्रणाली, प्लास्टिक प्रदूषण आदि न करने के लिए जागरूकता के सामान्य स्तर की आवश्यकता है। ये बहुत ही सामान्य चीजें हैं, अगर हम इन छोटी-छोटी सामान्य बातों को समझने में सक्षम हैं तो हमारे साथ कुछ भी बुरा नहीं होगा। सबसे बड़ा उदाहरण जापान है, हमें उन लोगों से सीखने की जरूरत है जो ज्यादातर हर बार प्राकृतिक आपदाओं से निपटते हैं, लेकिन फिर से वे वैसे से खड़े हो जाते हैं जैसे कुछ हुआ ही ना हो और एक सामान्य जीवन जीते हैं।