जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने कुशलता पूर्वक निर्वाचन कार्य सम्पन्न कराए जाने के गुर सिखाए
April 1, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो
# एसएसपी उपेंद्र अग्रवाल ने भी सेक्टर व जोनल पुलिस मजिस्ट्रेट को विभिन्न आवश्यक तैयारियों के बारे में दी जानकारी
 
# लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 को निष्पक्ष, पारदर्शी व भयमुक्त वातावरण में सम्पन्न कराये जाने हेतु जिला निर्वाचन अधिकारी हैं प्रतिबद्ध
 
# जिला निर्वाचन अधिकारी ने की समस्त जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट के प्रशिक्षण की समीक्षा 
 
गाजियाबाद। जिला निर्वाची अधिकारी सह जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने सोमवार को मोहननगर स्थित आईटीएस डेन्टल कालेज के सभागार में समस्त जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचन को शान्तिपूर्ण, निष्पक्ष व सफलता पूर्वक सम्पादित कराये जाने के लिए आपको सदैव चौकस रहना होगा। इसलिए पोलिंग पार्टियों को जो प्रस्तुतिकरण द्वारा प्रशिक्षण दिया गया है, वो आपके व्हाट्सएप्प पर भी उपलब्ध रहेगा, ऐसी व्यवस्था की गई है। 
जिला निर्वाचन अधिकारी ने निर्देशित किया कि 10 व 11 अप्रैल बहुत महत्वपूर्ण तारीखें हैं। इसलिए सभी पोलिंग पार्टियां 10 तारीख की सायं को मतदेय स्थलों पर पहुंच जाएंगी। पार्टियों की रवानगी पर व पहुंचने पर आपके द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा। मतदान के उपरान्त पोलिंग पार्टियां अनाज मण्डी, गोविंदपुरम स्थित स्ट्रांग रूम पहुंचेंगी, जहां ईवीएम, वीवीपेट व मतदान सामग्री जमा करने के उपरान्त ही उनको प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा। उन्होंने बताया कि 11 अप्रैल की प्रातः 6 बजे से मॉकपोल शुरू हो जायेगा। इसलिए आप लोगों को प्रातः 5 बजे मतदान केन्द्रों पर पहुंचना होगा। उन्होंने कहा कि वीवीपेट मशीनें एमई मॉडल की है, जिसका उपयोग देश भर में लोकसभा सामान्य निर्वाचन हेतु किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वनरेबल व क्रिटिकल मतदान केन्द्र डिजिटल कैमरों से लैस होंगे माईक्रो आर्ब्जबर व सीपीएमएफ उपलब्ध रहेगी। 
 
जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिसको जो जिम्मेदारी सौंपी गयी है, वो अपने निर्वाचन कार्य को पूर्ण निष्ठा के साथ अन्जाम दें। उन्होंने कहा कि कार्य के अनुरूप जिस टीम की आवश्यकता पड़ रही है, उससे समन्वय कर क्षेत्रों में भ्रमणशील रहें। उन्होंने ये भी निर्देशित किया कि विगत चुनाव के दौरान कहीं किसी प्रत्याशी के द्वारा आम जन के मताधिकार को किसी भी प्रकार से प्रभावित किया गया हो तो उन कारणों की जानकारी कर सेक्टर व जोनल पुलिस मजिस्ट्रेट व उच्चाधिकारियों को भी अवगत कराएं, जिससे वनरेबिलिटी व संवेदनशीलता पर समय रहते अंकुश लगाया जा सकें और मतदान निष्पक्षता के साथ शतप्रतिशत रूप से सम्पन्न हो सकें। 
 
जिलाधिकारी ने कहा कि वास्तविक मतदान के समय वीयू व सीयू खराब होती है तो पूरा सैट बदल दिया जायेगा। अतिरिक्त यूनिट भी बदली जाएंगी। उन्होंने बताया कि 6 अप्रैल तक के लिए पोलिंग पर्सनल्स को कल के प्रशिक्षण में स्टेशनरी दी जायेगी। उसको खराब न करें। उन्होंने कहा कि 11 अप्रैल  को कमला नेहरू पार्क में समस्त जोनल व सेक्टर मजिस्ट्रेट को किट प्रदान की जायेगी जिसमें पूरा विवरण होगा। सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेट द्वारा क्षेत्रों के भ्रमण के दौरान मतदेय स्थलों पर पेयजल, रैम्प, फर्निचर, विद्युत व अवशेष निर्माण सामग्री की समस्यायों को दृष्टिगत रखते हुये जिला निर्वाचन अधिकारी ने नगर निगम बेसिक शिक्षा विभाग, विद्युत विभाग व लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये कि 3 अप्रैल तक सभी समस्याओं का निस्तारण करायें। 
प्रशिक्षण में उपस्थित वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उपेंद्र अग्रवाल ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि सभी सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेट, सेक्टर पुलिस मजिस्ट्रेट व जोनल पुलिस मजिस्ट्रेट से समन्वय बनाकर निर्वाचन कार्य सम्पादित करें। सेक्टर व पुलिस मजिस्ट्रेट मतदान केन्द्रों के आने व जाने वाले रास्तों का निरीक्षण कर लें।वेरिकेटिग इत्यादि की समुचित व्यवस्था देख लें। ये भी सुनिश्चित कर लें कि कही अवैध शराब या अवैध हथियारों का भंडारण तो नहीं हो रहा। आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन तो नही किया जा रहा। अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण शील रहें। किसी भी राजनैतिक पार्टी से समन्वय नहीं बनाएं, अन्यथा आपके खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। इसलिए चुनावी माहौल बनाएं और निष्पक्षता बरतें। पोलिंग पार्टियां मतदान के उपरान्त मण्डी ईवीएम जमा करने हेतु सीपीएमएफ से कवर होकर आयेगी। किसी भी रूट या बस में सीपीएमएफ नहीं है तो आप हमें रिर्पोट करेंगे। 
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस एक्सकिलूसिव हैल्प लाईन नम्बर- 9667595630 है। आपात स्थिति में इस नम्बर पर सूचित करें। यह नम्बर- 2 दिन के उपरान्त सक्रिय होगा। 8 अप्रैल को पुलिस व प्रशासनिक मजिस्ट्रेट संयुक्त भ्रमण करें। जिस गांव में भी जाएं, उसका अपराधिक इतिहास मालूम कर लें ताकि चुनावी हिंसा न होने पाये। बाहुबलियों के गांव का विशेष  ध्यान रखा जाये। चुनाव प्रक्रिया के दौरान ऐसा कोई व्यवाहार न करें जिससे राजनैतिक पार्टियां प्रभावित हो रही हो। चुनाव में लगे सभी जीपीएस युक्त वाहनों की ट्रैकिंग करायी जायेगी। सैक्टर व जौनल मजिस्ट्रेट को 2-2 ईवीएम व वीवी पैट रिजर्व में दी जायेगी। उन्होंने कहा कि यदि किसी कार्य में कोई बाधा या परेशानी महसूस हो तो तत्काल बतायें। जिससे आवश्यकता के अनुरूप व्यवस्था सुनिश्चित करायी जा सकें। 
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व, अपर जिलाधिकारी नगर, अपर जिलाधिकारी भूअ, एसपी क्राईम व सभी उप जिलाधिकारी व नोडल अधिकारी उपस्थित रहे।