जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने लिया नगर निगम के उल्लेखनीय कार्यों का जायजा, थपथपाई निगमकर्मियों की पीठ
April 25, 2019 • कमलेश पांडे
# नगर आयुक्त दिनेश चंद्र अपनी पूरी टीम के साथ जिलाधिकारी को अपने कार्यकलापों से रु ब रु करवाया और वाहवाहियां बटोरी
# निरीक्षण के दौरान प्रतिबंधित पॉलीथिन के उपयोग कर्ताओं को 200 से लेकर 7000 रुपये तक का जुर्माना लगाया
 
गाजियाबाद। नगर आयुक्त दिनेश चंद्र द्वारा निगम क्षेत्र में किये जा रहे सराहनीय कार्यों का अवलोकन करने से जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी खुद को भी नहीं रोक पाई और नगर आयुक्त दिनेश चंद्र की टीम सहित गुरुवार को नगर परिभ्रमण पर निकल गईं। तकरीबन 4.00 बजे अपराह्न से 7 बजे तक जिलाधिकारी ने ग़ाज़ियाबाद नगर निगम द्वारा कराए जा रहे कार्यों का एक एक कर जायजा लिया और तारीफों की पुल बांधी। 
 
जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने नगर आयुक्त दिनेश चंद्र, अपर नगर आयुक्त आर.एन. पांडेय और प्रमोद कुमार, मुख्य अभियंता मोइनुद्दीन, सह प्रभारी उद्यान वार्ष्णेय, अधिशासी अभियंता-जल आनंद त्रिपाठी, अधिशासी अभियंता-प्रकाश मनोज प्रभात, प्रभारी नगर स्वास्थ्य अधिकारी वी.पी. शर्मा व अन्य अधिकारियों के साथ एक एक कर के महत्वपूर्ण कार्यों का निरीक्षण किया और उल्लेखनीय कार्यों के सफल सम्पादन पर प्रसन्नता जताई।
 
सर्वप्रथम जिलाधिकारी ने नगर निगम द्वारा बनायी जा रही राजनगर, रामलीला मैदान, कविनगर, हिंट चौराहे से सेक्टर 03 के पार्क तक, नंदग्राम, पुराना बस अड्डे से मालीवाड़ा की सड़कों का निरीक्षण किया जो ठीक पाई गयीं। फिर पुराने बस अड्डे के पास फल-सब्जी मंडी का निरीक्षण किया, जिसमें फल-सब्जी विक्रेताओं द्वारा अपने फल-सब्जी की खरीदारी करने वाले व्यक्तियों को कागज व कपड़ों की थैलियों में समान विक्रय किया जा रहा था तथा जन सामान्य भी अब समान खरीदने के लिए अपने घरों से कपड़े का थैला लेकर चलने लगे हैं। यह देखकर अधिकारियों ने प्रसन्नता जताई।
 
जिलाधिकारी ने महसूस किया कि उत्तर प्रदेश व अन्य जीव अनाशित कूड़ा-कचरा अधिनियम 2018 के अंतर्गत नगर निगम द्वारा अभियान चलाकर पॉलीथिन के प्रयोग पर नगर में काफी अंकुश लगाया है तथा नागरिकों को प्लास्टिक, पालीथिन का प्रयोग न करने के लिए निरंतर जागरूक किया है, जिसके लिए उन्होंने नगर निगम की सराहना भी की।
 
फिर, सब्जी मंडी के निरीक्षण के समय 2 व्यक्ति जो घर से ही सामान खरीदने के लिए पॉलीथिन के थैले लाये थे, उनसे 200 रुपए व एक फल विक्रेता द्वारा पालीथिन के बैग का प्रयोग करने पर 5000 रुपए का जुर्माना लगाया गया। इसी क्रम में पुराना बस अड्डे के निकट लालमन लस्सी वाला व मुकेश लस्सी वाले पर अपने ग्राहकों को पालीथिन में लस्सी पैक कर दिए जाने पर 7000 रुपए  का जुर्माना वसूला गया।
 
बता दें कि पुरानी फल-सब्जी मंडी में ही नगर निगम द्वारा श्री श्री रवि शंकर नाम से सब्जी मंडी के अपशिष्टों के द्वारा जैविक खाद बनाने का कार्य किया जा रहा है जिसके लिए जिलाधिकारी द्वारा नगर आयुक्त के इस सराहनीय कार्य की भी प्रशंसा की गई। फिर, जिलाधिकारी ने नगर निगम द्वारा संचालित नंदी पार्क का भी निरीक्षण किया, जिसमें गौवंशों द्वारा सुविधा से खाने-पीने के लिए खोर बना दी गयी है तथा गौ-वंशों को गर्मी से बचाने व उनके सुविधा से रहने के लिए नगर निगम द्वारा जो शैल्टर बनाये जा रहे हैं, उनको देख जिलाधिकारी बहुत ही खुश हुईं तथा कार्य को अतिशीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।
 
उसके बाद, नंद ग्राम के निरीक्षण के समय गंदगी पाये जाने पर जिलाधिकारी द्वारा प्रभारी नगर स्वास्थ्य अधिकारी को फटकार लगाते हुए सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिए व  साफ-सफाई व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाने के लिए कुछ अहम सुझाव भी दिए गए।