तेज हुए तेजप्रताप के बागी सुर , तेजस्वी को दी दो दिन की मोहलत, फिर लेंगे फैसला
April 2, 2019 • राकेश रमण

पटना। राजद सुप्रीमो लालू यादव चारा घोटाला मामले में जेल में सजा काट रहे हैंऔर तबीयत खराब होने के कारण रिम्स में भर्ती हैं और इधर उनके परिवार में बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने बगावती तेवर अपना लियाहै। तेजप्रताप ने कहा कि मैं अभी रूक गया हूं, मेरे दोनों प्रत्याशियों को पार्टी जल्द टिकट दे। पार्टी दो दिन में फैसला ले नहीं तो अब मैं फैसला लूंगा। उन्होंने कहा कि तेजस्वी और मेरे बीच कोई मनमुटाव नहीं है, तेजस्वी के आसपास चापलूस लोग हैं। तेजप्रताप ने कहा कि जल्द ही हम दोनों भाई चुनावी सभा में साथ दिखेंगे। तेजप्रताप ने कहा कि तेजस्वी यादव मेरे छोटे भाई हैं और मैं बड़ा हूं, उन्हें मेरी बात माननी होगी। सोमवार को तेजप्रताप यादव ने लालू-राबड़ी के नाम से नया मोर्चा बना लिया है और आरोप लगाया है कि राजद में उनकी बात नहीं सुनी जा रही थी, जिसकी वजह से वह तेजस्वी यादव से नाराज थे। नाराजगी की वजह से उन्होंने राजद के भीतर नया मोर्चा बना लिया तेजप्रताप ने आज कहा है कि तेजस्वी के इर्द- गिर्द बैक्टीरिया है और बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए ही अलग मोर्चा बनाया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी और अन्य दलों से भागे लोग ही पार्टी को बिगाड़ रहे हैं। जब दांत सड़ जाता है तो इंजेक्शन दिया जाता है ताकि उसमें से बैक्टीरिया निकल जाएऐसा ही हाल पार्टी में भी है और अब इंजेक्शन लगाकर बैक्टीरिया का सफाया करूंगा। तेजप्रताप ने कहा कि मैंने अपनी मां से अपील की है कि वो सारण सीट से चुनाव लड़े और इस अपील का असर मां पर होगा। मेरी मां अगर टीवी देख रही है तो उनसे अपील है कि वो अपनी पुश्तैनी सीट से लड़ें। क्योंकि पापा ने वहां विकास की गंगा बहाई है। अगर मेरी बात नहीं मानी जाएगी तो मैं चुनाव लडूंगा।मैं घर का बड़ा बेटा हूं इसलिए मेरी बात माननी पड़ेगी। सोमवार देर शाम लालू-राबड़ी मंच बनाकर पांच उम्मीदवारों के नाम का एलान करने वाले तेजप्रताप से पार्टी का एक बड़ा तबका नाराज है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के फैसले के खिलाफ जाने पर अब तेजप्रताप के खिलाफ कार्रवाई का दबाव बन रहा है। पार्टी के सभी बड़े नेता तेजप्रताप के रवैये से परेशान हैं। पार्टी के विधायक भाई वीरेंद्र ने तेजप्रताप पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि लालू यादव हम लोगों के शीर्ष नेता हैं और उसके बाद तेजस्वी, और कोई कुछ भी करें, इससे हम लोगों को कोई लेना देना नहीं हैजहां तक बात रही मोर्चा बनाने की तो लोकतंत्र में सबको अधिकार है कुछ भी करने का। मोर्चा बनाने दीजिए सबको उनकी हैसियत का पता चल जाएगा। भाई वीरेंद्र ने यह भी कहा कि आज कोई भी खड़ा है तो वो लालू प्रसाद की पहचान पर खड़ा है न कि उसकी कोई हैसियत है। बता दें कि तेज प्रताप ने शिवहर और जहानाबाद सीट का टिकट अपने मनपसंद प्रत्याशी को देने की मांग की है और कहा है कि वहां जिस प्रत्याशी को टिकट दिया गया है वो तीन बार से चुनाव हारते आ रहे हैं। वहां की जनता नहीं चाहती कि वे प्रत्याशी हों।