दिल्ली की जनता से लूट गये 7000 करोड़ लौटाने पड़ेंगे - मनोज तिवारी
June 12, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

  नई दिल्ली।  अरविंद केजरीवाल और शीला दीक्षित की फिक्सड चार्ज हटाने को लेकर हुई बैठक को छलावा बताते हुये दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। बिजली कंपनियों के माध्यम से दिल्ली की जनता को 15 साल तक कांग्रेस सरकार ने लूटा और पिछले साढे़ चार साल से केजरीवाल लूट रहे हैं लेकिन जनता से लूटा गया धन केजरीवाल को लौटाना पड़ेगा। दोनों नेताओं की आपसी बैठक से लगता है कि दाल में कुछ काला है लेकिन दिल्ली की जनता जानती है कि पूरी दाल ही काली है। आने वाले विधानसभा चुनाव में गठबंधन का नाटक करने वाले दोनों दलों को सबक सिखायेगी। 

    श्री तिवारी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में दोनों दलों की करारी हार से आम आदमी पार्टी और कांग्रेस बौखला गई हैं। चुनाव के दौरान भी दोनों गठबंधन बनाने के लिये बार-बार बैठकों का नाटक करते थे और अब दिल्ली की जनता से लूटे गये सात हजार करोड़ को लौटाने के लिये भारतीय जनता पार्टी ने दबाव डाला तो दोनों दलों के नेता आपसी बैठक करके दिल्ली के लोगों को गुमराह कर रहे हैं।

    साढ़े चार साल से दिल्ली का विकास रोक कर बैठे केजरीवाल के उम्मीदवारों की लोकसभा चुनाव में जमानत जब्त करके जब जनता ने सबक सिखाया तो अब उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि ऐसा कौन सा काम करें कि दिल्ली की जनता उनके गुनाहों को माफ कर दे। बिना योजना बनाये आनन फानन में कभी मुफ्त यात्रा घोषणा कर देते हैं तो कभी अपने मंत्रियों को जल्दी-जल्दी काम करने का आदेश दे देते हैं। लेकिन दिल्ली की जनता को पता है कि साढ़े चार साल से केजरीवाल ने काम करने की जगह धरना देने और भारतीय जनता पार्टी को सिर्फ कोसने का काम किया है। दिल्ली की जनता ने जिस तरह से लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी को पूर्ण आशीर्वाद दिया है उसी तरह से विधानसभा में भी समर्थन देने का मन बना चुकी है जिससे दिल्ली के रूके हुये काम तीव्र गति से हो सकें।