नई स्कीम के तहत हर साल 55 हज़ार नये पेड़ लगाये जा सकेंगेः मनजिंदर सिंह सिरसा
July 3, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

 

नई दिल्ली। दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने अपने कालेजों में नये दाखिला लेने वाले सभी विद्यार्थीयों के लिए दाखिले के पहले साल मे 10 पेड़ लगाने और हर साल इनके विकास की रिपोर्ट अपने प्रिंसिपल के पास पेश करना लाज़मी कर दिया है। इस स्कीम के शुरु होने से हर साल औसतन 55000 नये पेड़ लगाये जा सकेंगे। दिल्ली कमेटी अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने यह अभिव्यक्ति प्रकट की।यहां जारी एक बयान में  सिरसा ने बताया कि हमने अपने 5 दिल्ली युनिवर्सिटी के कालेजों और 5 गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ युनिवर्सिटी कालेजों में नया दाखिला लेने वाले विद्यार्थीयों के लिए लाज़मी कर दिया है कि वह दाखिले के समय हल्फीया बयान देंगे कि वह दाखिले के समय 10 नये पेड़ लगायेंगे। इस तरह 5500 के करीब नये दाखिल होने वाले विद्यार्थी हर साल 55000 पेड़ लगायेंगे।

स्कीम के बारे में बताते हुए  अध्यक्ष ने कहा कि स्कीम के तहत हर विद्यार्थी दाखिले के समय हल्फीया बयान देगा कि वह दाखिले के पहले साल 10 पेड़ लगायेगा और हर साल के अंत में यह विद्यार्थी तस्वीरों व् वीडिओ समेत इन पेड़ों के विकास की रिपोर्ट अपने कालेज के प्रिंसिपल  के पास जमा करवायेगा। उन्होंने कहा कि विद्यार्थीयों की हौसला अफज़ाई के लिए कालेज  द्वारा कोर्स की समाप्ती पर विद्यार्थीयों को सर्टीफिकेट भी प्रदान किये जायेंगे।

श्री सिरसा ने कहा कि इस के अलावा विद्यार्थीयों को कहा जायेगो कि वह अपने घरों में बारिश के पानी की संभाल के लिए ;रेन वाटर हारवैस्टिंगद्ध भी करें और इसकी रिपोर्ट  अपने प्रिंसिपल  के पास जमा करवायें। उन्होंने कहा कि प्रिंसीपल यह सुनिश्चित करेंगे कि हर विद्यार्थी शुरु की गई इस पेड़ लगाओ मुहिम में भाग लेगा।

प्रबंधक  कमिटी  के अध्यक्ष ने कहा कि दिल्ली में हर तरह का प्रदूषण वायु जल और ध्वनि प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। जिसके कारण दिल्ली दुनिया के सब से प्रदुषित शहरों में शामिल हो गया है और इसके नागरिक खास तौर पर बच्चे और बर्जुगों पर प्रदूषण का प्रभाव पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमने हमेशा वातावरण संभाल पर जोर दिया है और उन्हें विश्वास है कि यह स्कीम स्थिति सुधारने में अहम रोल अदा करेगी और इस कारण राष्ट्रीय राजधानी में तबदीली और सुधार आयेगा।

श्री सिरसा ने कहा कि इस स्कीम के माध्यम से हम दिखा देंगे कि कैसे नौजवान वर्ग वातावरण में तबदीली के लिए अहम रोल अदा करता है। उन्होंने कहा कि जल्दी ही यह स्कीम डीसजीएमसी  के स्कूल विद्यार्थीयों के लिए भी लागू करेंगे। उन्होंने दिल्ली युनिवर्सिटी के वाइस चांसलर  पी निशांक को अपील की कि इस संजीदगी भरी पहल को दिल्ली यूनिवर्सिटी के हर कालेज में लागू करें। उन्होंने कहा कि यह प्रधान मंत्री  नरेन्द्र मोदी द्वारा इस हफते मन की बात प्रोग्राम में पेश किये विचार का भी पूरक है।

उन्होंने कहा कि गलोब्ल वार्मिंग एक गंभीर खतरा है और हम सभी इसके प्रभाव कारण परनी की कमी के संकट से जूझ रहे हैं। उन्होंने कहा कि समय की जरुरत है कि हम अपने गुरु साहिबान द्वारा दिये संदेश .पवन गुरु पाणी पिताए माता धरत महत के महत्तव को समझें। उन्होंने कहा कि यह कुदरत की संभाल करने का समय है और नौजवान से बढ़ कर कौन इसकी समझ रख सकता है।