पुलवामा हमला- भारत के साथ कदम से कदम मिला कर खड़ा हैं अमेरिका
February 16, 2019 • कार्तिक

वाशिंगटन। अमेरिका के कई सांसदों व नेताओं ने जम्मू और कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के एक काफिले पर हुए आतंकी हमले के मद्देनजर शुक्रवार को भारत के साथ एकजुटता व्यक्त की और कहा कि दोनों देश आतंकवाद से निपटने के लिए एकजुट हैं। पार्टी लाइन से ऊपर उठकर, प्रतिनिधि सभा और सीनेट के 50 से अधिक सदस्यों ने सोशल मीडिया पर भारत के लोगों के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त की और जैश-ए-मोहम्मद और उसके प्रायोजकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आह्वान किया। श्रीनगर से लगभग 20 किलोमीटर दूर पुलवामा में हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। बृहस्पतिवार को हुए हमले में केंद्रीय आरक्षित पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कम से कम 37 जवान शहीद हो गए जबकि कई अन्य घायल हुए हैं। डेमोक्रेटिक सीनेटर चक शूमर ने ट्वीट किया, "मैं कश्मीर में आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। अमेरिका भारत में हमारे दोस्तों के साथ खड़ा हैऔर मैं उन परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है।'' सीनेटर रॉबर्ट मेंडेज ने कहा कि वह आतंकवादी हमले से काफी व्यथित हैं। 1989 के बाद से उस क्षेत्र में यह सबसे घातक हमला हैसीनेटर जॉनी आइजकसन ने आतंकी हमले की कड़ी निंदा की और आतंकवाद को हराने के लिए भारत के साथ अमेरिका के समर्थन का संकल्प लिया। सीनेट इंडिया कॉकस के सह-अध्यक्ष सीनेटर जॉन कॉर्निन ने कहा, “आज, कश्मीर में एक कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवादी समूह द्वारा भारतीय सुरक्षा बलों पर 30 साल के सबसे घातक हमले में 40 से अधिक सैन्यकर्मी मारे गए। आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक युद्ध में महत्वपूर्ण सहयोगी होने के नाते मैं इस निर्मम हमले में मारे गए और घायल हुये सैनिकों के लिए उनके परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं।'' सीनेटर टॉम कॉटन ने कहा, “कश्मीर में हुये हमले से उबरने में अमेरिका अपने साझेदार भारत के साथ खड़ है। जैश-ए-मोहम्मद और उसके प्रायोजक देशों को इस हमले के गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।'' सीनेट इंडिया कॉकस के सह-अध्यक्ष और खुफिया मामलों पर सीनेट की चयन समिति के उपाध्यक्ष मार्क वार्नर ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में कहा, ''मेरा दिल सकश्मीर आतंकी हमले के पीड़ितों के साथ है। अमेरिका आतंकवाद के इस जघन्य कुकृत्य को अंजाम देने वाले लोगों खिलाफ जंग में अपने भारतीय सहयोगियों के साथ खड़ा है।''