फ्रीस्टाइल पहलवानों के बेहतरीन प्रदर्शन की से भारत 155 अंको के साथ पहली बार उपविजेता बना
April 24, 2019 • शशिधर शुक्ला
शियान | अमित धनखड़ और विक्की ने बुधवार को यहां रजत जबकि जीता वही राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियन राहुल अवारे, दीपक पुनिया, सुमित कुमार ने कांस्य पदक जीता जिससे भारतीय पुरुष फ्रीस्टाइल पहलवानों ने एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा । एशियाई चैंपियनशिप 2013 के स्वर्ण पदक विजेता अमित को पुरुष 74 किग्रा फ्रीस्टाइल के फाइनल में कजखस्तान के डेनियार केसानोवा के खिलाफ 0-5 से शिकस्त से रजत पदक से संतोष करना पड़ा । वही विक्की को पुरुष 92 किग्रा फ्रीस्टाइल के फाइनल में ईरान के अलीरज़ा मोहम्मद करीमिक्कानी के खिलाफ 0-11 से हार के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा | 
 
हरियाणा के 28 साल के अमित ने क्वालीफिकेशन में ईरान के मोहम्मद असगर नोखोदिलारिकी के खिलाफ 2-1 की जीत से शुरुआत की । क्वार्टर फाइनल में उन्हें अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ा जब उनके प्रतिद्वंद्वी जापान के युही फुजिनामी चोटिल होकर बाहर हो गए । सेमीफाइनल में अमित ने किर्गिस्तान के इलगिज झाकिपबेकोव को 5-0 से शिकस्त दी । वही विक्की ने 92 किग्रा के क्वाटरफाइनल राउंड मे राष्ट्रमंडल खेलो के स्वर्ण पदक विजेता पाकिस्तान के मुहम्मद इनाम को जीता सेमीफाइनल राउंड मे जबर्दस्त प्रदर्शन के साथ चीन के जिओ सुन को 3-2 अंको से हरा कर फाइनल मे पाहुचे जहा उन्हे अपना रजत पदक पक्का कर लिया |
 
गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों की 57 किग्रा स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाले अवारे ने पुरुष 61 किग्रा फ्रीस्टाइल के कांस्य पदक प्ले आफ में कोरिया के जिनचियोल किम को 9-2 से हरा कर कास्य पदक जीता । अवारे ने क्वालीफिकेशन राउंड में उज्बेकिस्तान के जाहोनगिरमिर्जा तुरोबोव को तकनीकी दक्षता (10-0) के आधार पर हराया। यह भारतीय हालांकि क्वार्टर फाइनल में ईरान के ऐशाग अहसनपुर के खिलाफ हार गया । अहसनपुर के फाइनल में जगह बनाने पर अवारे को रेपेशेज में थाईलैंड के सिरीपोंग जुमपाकम के खिलाफ खेलने का मौका मिला और उन्होंने यह मुकाबला 12-1 से तकनीकी दक्षता के आधार पर जीता । इसके अलावा दो अन्य भारतीय पहलवान सुमित कुमार 125 किग्रा और दीपक पुनिया 86 किग्रा ने भी अपने अपने वजन समूह मे कास्य पदक जीता |
 
पुरुष फ्री स्टाइल कुश्ती मे आज रजत और कांस्य पदक के साथ भारत के पदकों की संख्या 9 हो गई है जिसमें एक स्वर्ण, तीन रजत और चार कांस्य पदक शामिल है ।  पिछले वर्ष 2018 किर्गिस्तान के बिश्केक शहर में आयोजित सीनियर एशियाई चैंपियनशिप में भारतीय दल ने तीनों स्टाइल (फ्री स्टाइल, महिला कुश्ती, ग्रोकों रोमन) मे 1 स्वर्ण, 1 रजत व 6 कांस्य पदक सहित कुल 8 पदक जीते थे ।  इसमें सर्वाधिक पदक महिला कुश्ती में 1 स्वर्ण, 1 रजत व 2 कांस्य पदक जीते जबकि पुरुष फ्रीस्टाइल में 2 कांस्य और ग्रीको रोमन कुश्ती में भी 2 कांस्य प्राप्त हुए थे | लेकिन इस बार पुरुष फ्री स्टाइल टिम ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुये चैंपियनशिप के दूसरे दिन ही 9 पदक भारत की झोली मे डाल दिये, इतना ही नहीं पहली बार भारतीय पुरुष फ्री स्टाइल टिम ने 155 अंको के साथ दूसरी चैंपियनशिप पर कब्जा भी जमाया |  इससे पहले 2018  मे भारत 66 अंको के साथ आठवे स्था पर था |  ईरान ने 220 अंको के साथ प्रथम व भारत के बाद कजाकिस्तान 129 अंको के साथ तीसरे स्थान पर रहा | मंगलवार को हुए मुकाबलो मे भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया (65 किग्रा) मे स्वर्ण जबकि प्रवीण राणा (79 किग्रा) और सत्यव्रत कादियान (97 किग्रा) ने क्रमश: रजत और कांस्य पदक जीता था । कल से महिलाओ के मुक़ाबले खेले जाएगे जिसमे भारत की सीमा (50 किलो), विनेश फोगाट (53 किलो), ललिता सेहरावत (55 किलो), पूजा ढांडा (57 किलो), मंजू (59 किलो), साक्षी मलिक (62 किलो), नवजोत कौर (65 किलो), दिव्या काकरान (68 किलो), किरण बिश्नोई (72 किलो) और पूजा (76 किलो) मे अपनी चुनोती पीआरएसएच करेगी |
टीम के जाने से पहले ही भारत के पूर्व कुश्ती कोच कृपाशंकर बिश्नोई ने कहा था की एशियाई कुश्ती में भारत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेगा