बाल कल्याण के लिए बजट में 16 प्रतिशत वृद्धि का कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन्स फाउंडेशन ने किया स्वागत
July 5, 2019 • शशिधर शुक्ला
नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी द्वारा स्थापित संस्था कैलाश सत्यार्थी चिल्डन फाउडेंशन नए केंद्रीय बजट में बच्चों के कल्याण के लिए केंद्र सरकार द्वारा किए गए विभिन्न सकारात्मक कदमों की सराहना करता है। हमें बेहद प्रसन्नता है कि कुल बजट आवंटन में बच्चों के लिए 16 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इसके अलावा (सेबी) के तहत सोशल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना सामाजिक सेवा संगठनों को बड़े पैमाने पर समाज के कल्याण के लिए धन जुटाने के लिए आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान करेगा।
 
बाल संरक्षण सेवाओं (सीपीएस) के लिए आवंटन को 2018-19 में 725 करोड़ रुपये से 2019-20 1500 करोड यानि तकरीबन दोगुना करने से पीड़ित बच्चों को अधिक सहायता मिलेगी। हम सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के तहत बाल कल्याण के लिए बजट में 89 प्रतिशत की वृद्धि का स्वागत करते हैं, इसके अलावा, छात्रवृत्ति के रूप में पिछड़ी जाति के बच्चों को अधिक वित्तीय सहायता से राहत मिलेगी। हम श्रम कानूनों को सुव्यवस्थित करने और देश में श्रम न्यायालयों की स्थापना के लिए भी जोर देते हैं।
 
दूसरी ओर, हम सरकार से अपेक्षा करते हैं कि वह बालिकाओं के सशक्तीकरण और संरक्षण को प्रोत्साहित करने के लिए की राष्ट्रीय बालिका शिक्षा योजना को और प्रोत्साहन प्रदान करेंगे, तत्कालिक बजट में इसमें कटौती देखी गई है। राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना और बालश्रम पीड़ितों के पुनर्वास को बजट के दायरे में लाकर और अधिक संसाधन लगाए जाने चाहिए।