बेहतर समन्यव हेतु "ऑपरेशन मिशन" का आयोजन
July 16, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

दिल्ली।उत्तरी दिल्ली के महापौर अवतार सिंह ने मानसून और नालों से गाद निकाले से जुड़ी समस्याओं को लेकर तैयारियों और बेहतर समन्वय स्थापित करने के लिए निगम मुख्यालय डॉ. एसपीएम सिविक सेंटर में "ऑपरेशन मिशन" बैठक का आयोजन किया। इस बैठक के दौरान उपमहापौर योगेश वर्मा, स्थायी समिति अध्यक्ष  जय प्रकाश, नेता सदन तिलक राज कटारिया, स्थायी समिति, उपाध्यक्ष विपिन मल्होत्रा, सिविल लाईंन क्षेत्र वार्ड समिति, अध्यक्ष, सुरेंद्र खर्ब, केशवपुरम क्षेत्र वार्ड समिति के अध्यक्ष जोगी राम जैन और करोल बाग क्षेत्र वार्ड समिति के अध्यक्ष छैल बिहारी भी उपस्थित थे।

इस बैठक में संबंधित विभाग जैसे बाढ़ नियंत्रण व सिंचाई विभाग, लोक निर्माण विभाग, दिल्ली मेट्रो, दिल्ली पुलिस, उत्तर रेलवे, दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड व दिल्ली स्टेट इंडस्ट्रियल एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (डीएसआईआईडीसी) के अधिकारी, निगम की अतिरिक्त आयुक्त निधि श्रीवास्तव, प्रमुख अभियंता के.पी. सिंह, मुख्य अभियंता, क्षेत्रीय उपायुक्त व अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

इस बैठक का मुख्य उद्देश्य उत्तरी दिल्ली नगर निगम और दिल्ली की अन्य नागरिक निकायों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित करना था जिससे की मानसून के दौरान नागरिकों को किसी भी तरह की परेशानी न हो।

बैठक के दौरान महापौर ने नालों से गाद निकालने, मेनहॉल की सफाई, पम्पो की व्यवस्था व सुपर सकर मशीनों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने जैसे विषयों पर चर्चा की । महापौर को उन स्थानों के विषय में भी बताया गया जहां से नालों से अभी गाद निकाली नहीं है तथा ऐसे स्थान जहां विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है के बारे में भी अवगत कराया गया।

अधिकारियों ने महापौर को बताया कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपने अधिकार क्षेत्र में  नालों से गाद निकालने का कार्य पूरा कर लिया है।

महापौर ने दिल्ली सरकार से संबंधित अधिकारियों को आदेश दिया कि वे जल्द से जल्द अपने नालो से गाद निकालने का कार्य पूरा करले क्योकि निगम के छोटे नालो कि निकासी लोक निर्माण विभाग के बडे नालो में है यदि वह मानसून से पहले साफ न हुए तो जल भराव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने कहा कि यह बैठक उत्तरी दिल्ली नगर निगम और अन्य विभागों के बीच बेहतर समन्वय के लिए बुलाई गई है ताकि उत्तरी दिल्ली के क्षेत्र में जल भराव कि स्थिति पैदा न हो। उन्होंने कहा कि मानसून की पहली बारिश के बाद जल जमाव की स्थिति का जायजा लेने के लिए विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण किया, उन्होंने पाया कि अभी भी कई नाले ऐसे हैं जो पीडब्लूडी विभाग से संबंधित हैं, जिन से गाद नही निकाली गई है, जिससे भारी बारिश में जल जमाव हो सकता है।

बैठक के दौरान उपमहापौर, स्थायी समिति के उपाध्यक्ष, सिविल लाईंन क्षेत्र वार्ड समिति, अध्यक्ष, केशवपुरम क्षेत्र वार्ड समिति के अध्यक्ष और करोल बाग क्षेत्र वार्ड समिति के अध्यक्ष ने नालों से गाद निकालने का कार्य जहा लंबित है और जिन बिंदुओं पर विशेष जोर देने की ज़रूरत है पर चर्चा कि।

बाढ़ नियंत्रण व सिंचाई विभाग, लोक निर्माण विभाग, दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड व डीएसआईआईडीसी से अनुरोध किया गया कि वे अपने क्षेत्र में आने वाले सारे नालों की सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करें ताकि नालों में वर्षा के पानी का उचित बहाव बन सके। इन विभागों को उन से संबंधित स्थानों के विषय में बताया गया जहां से नालों से अभी गाद निकाली नहीं है तथा ऐसे स्थान जहां विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

इन सभी विभागों द्वारा यह आश्वासन दिया गया कि मानसून में दिल्ली को पूरी तरह जलभराव से मुक्त बनाया जाएगा एवं आपस में पूरा समन्वय किया जाएगा।