भारतीय रेलवे का करगिल के बहादुरों को एक अलग अंदाज में सलाम
July 15, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

               20वें करगिल विजय दिवस की स्मृति में रेल डिब्बों  को वीरता के रंग में रंगा गया

दिल्ली। भारतीय रेल ने 1999 में करगिल युद्ध में भाग लेने वाले सैनिकों को एक अलग अंदाज में श्रद्धांजलि और सम्मान देने का निर्णय किया है । 20वें करगिल विजय दिवस की स्मृति में 218 रेल डिब्बों को सैनिकों की बहादुरी और बलिदान की कहानी कहने वाले वीरता के रंग में रंगा गया है । चूंकि यह डिब्बे  रेलवे के विशाल नेटवर्क के जरिए देश के विभिन्न भागों तक जायेंगे अत: यह देश भक्ति की भावना उत्पन्न करेंगे और  सौहार्द और अखंडता का संदेश देंगे ।

इसी सिलसिले में आज नई दिल्ली स्टेशन पर एक समारोह का आयोजन किया गया जहां माननीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एवं भू-विज्ञान मंत्री, भारत सरकार, डॉ. हर्षवर्धन, माननीय रेल राज्य मंत्री, भारत सरकार, सुरेश सी. अंगड़ी और माननीय संसद सदस्य (लोकसभा), श्रीमती मीनाक्षी लेखी द्वारा विनायल रैप की गयी एक रेलगाड़ी को झंडी दिखाकर रवाना किया गया । इस रैक को 14258 नई दिल्ली-वाराणसी काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में जोडा गया । इस अवसर पर जी.ओ.सी./दिल्ली क्षेत्र एवीएसएम,एसएम,वीएसएम, लेफ्टिनेंट  जनरल असित मिस्त्री, लेफ्टिनेंट  जनरल शांतनु दयाल, एवीएसएम,एसएम,वीएसएम, डीजी डीसी&डब्ल्यू,करगिल के शहीदों के परिजन शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा के जुडवां भाई विशाल बत्रा भी उपस्थित थे । समारोह में उत्तर रेलवे के महाप्रबन्धक टी.पी. सिंह एवं  उत्तर रेलवे व दिल्ली मंडल के अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे ।उपस्थित जन समूह को सम्बोधित करते समय श्री अंगडी ने कहा कि भारतीय रेल और भारतीय सेना दोनो देश के सबसे बढे विभाग हैं और दोनों ही अपने-अपने तरीके से देश की सेवा कर रहे हैं ।।  करगिल युद्ध के दौरान  सशस्त्र बलों द्वारा दिखाए गये पराक्रम और बलिदान के संदेश को  ले जाने वाली यह रेलगाड़ी दूर-दराज के गांवों, नगरों और शहरों तक जायेगी तथा शहीदों के प्रति सम्मान और आभार प्रदर्शित करेगी ।