माइक्रोसॅाफ्ट की साझेदारी से आईआईटी रुड़की विद्यार्थियों को क्वांटम कम्प्युटिंग का लाभ देगा 
August 31, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

        #आईआईटी रुड़की में माइक्रोसॅाफ्ट गराज़ इंडिया का पूरे सेमेस्टर के लिए इलैक्टिव कोर्स शुरू

रुड़की।  शिक्षा जगत को नई प्रौद्योगिकियां देने को प्रतिबद्ध माइक्रोसॅाफ्ट गराज़ इंडिया के सहयोग से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) रुड़की ने क्वांटम कम्प्युटिंग पर पूरे सेमेस्टर का कोर्स शुरू किया है। आईआईटी के बी.टेक. और एम. टेक. के विद्यार्थी बतौर पूल इलैक्टिव यह कोर्स चुन सकते हैं। कोर्स की संरचना आईआईटी रुड़की और माइक्रोसॅाफ्ट ने की है। इसमें विद्यार्थियों के लिए फरु प्रोग्रामिंग लैंग्वेज़ प्रायोगिक उदाहरण, माइक्रोसॅाफ्ट क्वांटम डेवलपमेंट किट और माइक्रोसॅाफ्ट क्वांटम फैकल्टी की सुविधा दी जाएगी। 

क्वांटम कम्प्युटिंग बहुत कम समय में जटिल से जटिल समस्याओं का हल कर देता है। इसलिए इसमें विद्यार्थी समुदाय की दिलचस्पी तेजी से बढ़ी है। आज विद्यार्थियों को यह जानकारी है कि क्वांटम कम्प्युटिंग से परस्पर विरोधी बहुत.से मानकों और वैरियेबल्स के साथ काम करने की बेजोड़ क्षमता है। हालांकि इसके लिए जरूरी हो गया है कि उभरते प्रोग्रामरों को उनकी शिक्षा के दौरान क्वांटम प्रोग्रामिंग की सुविधा सीधे उपलब्ध हो। माइक्रोसॅाफ्ट का क्वांटम कम्प्युटिंग प्रोग्राम पिछले 15 वर्षों से कार्यरत है। यह विद्यार्थियों के लिए प्रौद्योगिकी समझनाए व्यावहारिक एप्लीकेशन विकसित करना और भविष्य के लिए क्वांटम कार्य बल का विकास करना आसान बनाता है। आईआईटी रुड़की के इंजीनियरों को माइक्रोसाॅफ्ट के एक्सपर्ट क्वांटम कम्प्युटिंग सीखने का विशिष्ट ज्ञान देंगे जिसमें वास्तविक दुनिया के प्रयोग और साधन सुलभ होंगे।

इस साझेदारी पर माइक्रोसॅाफ्ट गराज़ इंडिया की निदेशक रीना दयाल ने कहा, ''माइक्रोसॅाफ्ट गराज़ और आईआईटी रुड़की का यह करार विद्यार्थियों को भावी इनोवेशन की शक्ति देने की दिशा में एक बड़ा कदम है। क्वांटम कम्प्युटिंग में माइक्रोसॅाफ्ट के अनुभव के साथ हम इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों के लिए तकनीक अधिक से अधिक सुलभ बनाना और उन्हें सीखने का बेहतर अनुभव देना चाहते हैं। इस साझेदारी से विद्यार्थियों को सीखने का नया अनुभव मिलेगा और वे प्रभावी समाधान विकसित करें इसमें मदद मिलेगी।ष्ष् 

इस साझेदारी पर आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रो. अजीत के. चतुर्वेदी ने बताया, '' माइक्रोसॅाफ्ट गराज़ इंडिया और आईआईटी रुड़की की इस साझेदारी से मैं बहुत उत्साहित हूं क्योंकि यह हमारे संस्थान और विद्यार्थियों के लिए विकास करने और इस क्वांटम कम्प्युटिंग प्रोग्राम के माध्यम से सीखने का बड़ा अवसर होगा। हमें विश्वास है कि हम आपसी सहयोग से इस क्षेत्र में योगदान देंगे और मिल कर अपने.अपने लक्ष्यों को पूरा करंगे।ष्ष्

माइक्रोसॅाफ्ट का लक्ष्य पूरी दुनिया के विद्यार्थियों को इनोवेशन और ऐसे समाधान देने में सक्षम बनाना है जो जीवन की वास्तविक चुनौतियों को दूर करने में सफल होंगे। हमारे प्रयासों से विद्यार्थियों को व्यावहारिक अनुभव, विशेषज्ञ का मार्गदर्शन और मेंटर मिले हैं जो उन्हें उम्मीद से बढ़ कर हासिल करने में सक्षम बनाते हैं। माइक्रोसॅाफ्ट गराज इंडिया शिक्षा जगत के साथ काम करते हुए विद्यार्थियों के लिए नई प्रौद्योगिकयां सुलभ बनाता है और उन्होंने अभ्यास के माध्यम से इनोवेशन और सृजन का जोरदार प्रयास करने का उत्साह देता है।