माल लदान और गैर किराया राजस्व के माध्यम से रेलवे की आय बढ़ायी जाए-पीयूष गोयल
August 24, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो
 
दिल्ली। रेल और वाणिज्य तथा उद्योग मंत्री श्री पीयूष गोयल, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष  विनोद कुमार यादव और रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने रेल भवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आंचलिक रेलवे/ उत्पादन इकाइयों के महाप्रबंधकों (जीएम)/ मंडलीय रेल प्रबंधकों (डीआरएम) के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की। 

समीक्षा बैठक के शुरूआती सत्र में पीयूष गोयल ने विभिन्न प्रमुख प्रदर्शन संकेतकों (केपीआई) पर अच्छा काम करने वाले मंडलीय रेल प्रबंधकों को बधाई दी। श्री गोयल ने जीएम और डीआरएम से जोर देकर कहा कि अधिक माल लदान और गैर किराया राजस्व के माध्यम से रेलवे की आय बढ़ायी जाए। श्री गोयल ने अंचलों और मंडलों से जोर देकर कहा कि ट्रेनों के समय पर चलने के काम को बेहतर बनाया जाए। बैठक में मुख्य रूप से भारतीय रेलवे में सुरक्षा कार्य, समय की पाबंदी, क्षमता वृद्धि और अन्य विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के बारे में चर्चा की गई।

वर्तमान वर्ष के दौरान आंचलिक रेलवे के अब तक के कामकाज की समीक्षा करते हुए, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने महाप्रबंधकों को ट्रेनों के परिचालन में सुरक्षा संबंधी परियोजनाओं की करीबी निगरानी करने का निर्देश दिया। श्री यादव ने मानवयुक्त लेवल क्रॉसिंग को खत्म करने और प्रत्येक अंचल में सड़क ओवर ब्रिज (आरओबी)/सड़क अंडर ब्रिज (आरयूबी) के तेजी से निर्माण पर जोर दिया। श्री यादव ने पिछले वर्ष इसी अवधि की तुलना में इस वित्तीय वर्ष के पहले चार महीनों में मानवयुक्त लेवल क्रॉसिंग (एमएलसी) को समाप्त करने की दिशा में हुई प्रगति पर संतोष व्यक्त किया।

श्री विनोद कुमार यादव ने महाप्रबंधकों को समय की पाबंदी में सुधार लाने के अपने प्रयासों को बढ़ाने का निर्देश दिया। उन्होंने महाप्रबंधकों से जोर देकर कहा कि वे माल लदान को बढ़ाने के लिए पहल करें। श्री यादव ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे वर्तमान बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को समय पर पूरा करें और इन परियोजनाओं के लिए  निर्धारित समय सीमा के लक्ष्यों को पूरा करें। उन्होंने परियोजनाओं के कार्यान्वयन से पहले उनकी अग्रिम योजना बनाने पर जोर दिया ताकि परियोजनाएं समय पर पूरी की जा सकें। नई लाइन शुरू करने, गेज परिवर्तन, दोहरीकरण, विद्युतीकरण परियोजनाओं में तेजी लाई जानी चाहिए।

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि सभी अंचलों और मंडलों को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के समारोहों के लिए तैयारी पूरी कर लेनी चाहिए। इस दिशा में की जा रही विभिन्न पहलों में प्लास्टिक के एकल उपयोग को समाप्त करना, पटरियों के दोनों तरफ नर्सरी बनाना, स्टेशनों और ट्रेनों में सफाई तथा वृक्षारोपण शामिल है। श्री यादव ने दोहराया कि सुरक्षा, समय की पाबंदी, बुनियादी ढ़ांचा निर्माण, स्टेशनों और ट्रेनों की स्वच्छता तथा यात्रियों के आराम पर ध्यान केंद्रित करना भारतीय रेलवे की प्राथमिकता वाले क्षेत्र बने रहेंगे।