रणनीतिकार व जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर को नीतीश ने दिखाया आईना
April 2, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

 

पटना।रणनीतिकार  से राजनेता बने जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की पार्टी से नाराजगी की खबरों पर मुख्यमंत्री नीतीश कमार ने तंज कसा हैऔर कहा है कि प्रशांत किशोर जदयू का हिस्सा हैं वो पार्टी के उपाध्यक्ष हैं। प्रशांत किशोर लोकसभा चुनाव में पार्टी के स्टार प्रचारक बनाए गए हैं। ऐसे में पार्टी में अपनी भूमिका को लेकर अगर उन्हें कोई भ्रम है तो यह उनकी दिक्कत है। प्रशांत किशोर मेरा सम्मान करते हैं, मैं उनपर भरोसा करता हूं एक न्यूज चैनल को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि प्रशांत और हमारे बीच में अच्छे रिश्ते हैं। वो हमेशा मेरा सम्मान करते हैं और मैं भी उनपर बहुत अधिक भरोसा करता हं। लेकिन कुछ मुद्दे ऐसे हैं जिनपर हम आमने-सामने होते हैं। प्रशांत किशोर पहले चुनावी रणनीतिकार थे और अब वे राजनेता बने हैं, जाहिर सी बात है कि उन्हें अभी राजनीति सीखने में थोड़ा वक्त लगेगा। प्रशांत किशोर सबसे बात करते हैं, लालू जी से भी बात करते हैंनीतीश कुमार ने कहा कि प्रशांत किशोर की टीम देश की अलग-अलग पार्टियों के लिए काम करती रही है, आज भी वो अपना काम कर रही है। प्रशांत को कई लोग जानते हैं और कौन उनसे क्या कहता है और उसपर वो क्या सोचते हैं, ये तो वही जानें। वो लालू जी से भी बात करते हैं, जेल से भी लालूजी बात करते हैं, तो ऐसे में किसी के बोलने और मिलने पर रोक नहीं। लेकिन राजनीति में बहुत बातें सोचनी और समझनी पड़ती सीएम नीतीश कुमार का यह बयान प्रशांत किशोर के उस ट्वीट के बाद आया है जिसमें प्रशांत किशोर ने कहा कि पार्टी में उनकी भूमिका सीखने और सहयोग की है। प्रशांत किशोर ने ट्वीट में लिखा था- बिहार में एनडीए माननीय मोदी जी एवं नीतीश जी के नेतृत्व में मजबूती से चुनाव लड़ रहा है। जदयू की ओर से चुनाव प्रचार एवं प्रबंधन की जिम्मेदारी पार्टी के वरिष्ठ और अनुभवी नेता  आरसीपी सिंह जी के मजबत कंधों पर है। राजनीति के इस शुरुआती दौर में मेरी भूमिका सीखने और सहयोग की है। बीते दिनों प्रशांत किशोर ने महागठबंधन तोड़कर एनडीए में जाने के नीतीश कुमार के फैसले पर भी सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि अगर ऐसा करना ही था तो नीतीश कमार को फेश मैंडेट लेकर जाना चाहिए था।