राहुल बरगाड़ी जाने का ड्रामा करने की बजाए कमलनाथ व टाईटलर को पार्टी से निकालें: सिरसा
May 14, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

                         1984 में हजारों सिक्खों को कत्ल करवाने वाले व्यकित को मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया

नई दिल्ली: दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंध्क कमेटी के अध्यक्ष व शिरोमणी अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता स. मनजिन्दर सिंह सिरसा ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पंजाब में बरगाड़ी जाने का ड्रामा  करने की बजाए कमलनाथ व जगदीश टाईटलर को पार्टी से निकालें और उनके उपर 1984 सिक्ख कत्लेआम का मामला दर्ज करवाएं।
श्री  सिरसा ने कहा कि कल 15 मई को राहुल गांधी पंजाब में बरगाड़ी जा रहे है और सिक्ख भावनाओं को भड़काने की कोशिश करने वालों का साथ दे रहें हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब के लोग इस बात से बहुत अच्छी तरह से वाकिफ है कि राहुल गांधी का सबंध सिक्खों के कातिल परिवार के साथ है। अकाली नेता ने कहा कि राहुल गांधी अगर सचमुच सिक्खों के जख्मों पर मरहम लगाना चाहते है पहले कांग्रेस के उन नेताओं को पार्टी से निकाले जिन्होंने 1984 में आगे होकर हज़ारों बेगुनाह सिक्खों को कत्ल करवाया जिनमें जगदीश टाईटलर और कमलनाथ आज भी कांगे्रस के वरिष्ठ नेता माने जाते है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ को तो गांधी परिवार को ईनाम के तौर पर मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया हुआ है।
श्री सिरसा ने कहा कि राहुल गांधी बरगाड़ी जाकर सिक्खों के जख्मों पर और नमक लगाने का काम करने जा रहें है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को यह बात समझ लेनी चाहिए के उनके परिवार को सिक्ख कौम माफ नहीं कर सकती और वह सिक्ख समाज को गुमराह नहीं कर सकते क्योंकि राहुल के पिता और दादी ने सिक्खों पर जो जुल्म किए वह सिक्ख इतिहास में काले अक्षरों में लिखें गए हैं। श्री अकाल तख्त साहिब पर हमला करवाना। उसके बाद राजीव द्वारा हजारों सिक्खों का कत्लेआम और मासूम लडकियों की इज्जतें लुटवाने जैसे कांग्रेस का घिनौना कारनामा सिक्ख समाज कैसे भूल सकता है।