रेल सुरक्षा बल के लिए नया स्थापना मैनुअल जारी
August 15, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

भारतीय रेल में जान व् माल की सुरक्षा करने हेतु  रेल, वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने आज नई दिल्ली के स्टेट एंट्री रोड़ में भारतीय रेलवे के लिए 'कोरस' (रेल सुरक्षा के लिए कमांडो) की शुरूआत की और रेल सुरक्षा बल के लिए नए स्थापना मैनुअल को जारी किया । इस अवसर पर रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी.के. यादव, रेल सुरक्षा बल के महानिदेशक अरूण कुमार और उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक टी.पी. सिंह सहित अनेक वरिष्ठ रेल अधिकारी उपस्थित थे ।

      इस अवसर पर सम्बोधित करते समय श्री गोयल ने कहा कि आज हम भारत को एक स्वच्छ, स्वस्थ सम्पन्न और सुरक्षित राष्ट्र के रूप में  विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं । विध्वंसक शक्तियों से मिलने वाली चुनौतियों के मददेनज़र, रेल सुरक्षा बल में कोरस को सम्मिलित करने की योजना बनाई है । 'कोरस' बल को बेहतर और अत्याधुनिक उपकरण और विश्वस्तरीय प्रशिक्षण दिया जायेगा । रेल सुरक्षा बल के जवान शिवचरण गुर्जर, जिन्होंने गुजरात के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 8 लोगों की जान बचाई, के प्रयासों की सराहना करते हुए श्री गोयल ने रेल सुरक्षा बल के जवानों की शानदार सेवा की सराहना की । श्री गोयल ने लोगों से आह्वान किया कि दलालों को हतोत्साहित करने के लिए तुरंत प्राधिकारियों को सूचित करें ताकि टिकट दलाली की समस्या को पूरी तरह से दूर किया जा सके ।

      श्री गोयल ने कहा कि रेलयात्रियों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए प्रत्येक स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरों का एक नया नेटवर्क स्थापित किया जायेगा । इन कैमरों का लिंक स्थानीय स्टेशनों, राजकीय रेल पुलिस, रेल सुरक्षा बल, मंडल कार्यालय और स्वयं मंत्री के कार्यालय तक को दिया जायेगा । उन्होंने दूर-दराज क्षेत्रों में दिन-रात रेल सम्पत्ति और यात्रियों की सुरक्षा में मुस्तैद रहने वाले प्रत्येक जवान और रेल सुरक्षा अधिकारियों को बधाई दी । उन्होंने रेलयात्रियों की सुरक्षा हेतु चिंता जताने के लिए माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद दिया । इस दिशा में 'कोरस' का गठन एक महत्वपूर्ण कदम है । उन्होंने स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन पर राष्ट्र को अपनी शुभकामनाएं दीं ।

      इस अवसर पर बोलते हुए रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी.के. यादव ने कहा कि कोरस का गठन विस्तृत नीति-निर्माण की परिणति है । दूर-दराज के चुनौतीपूर्ण इलाकों में रेल सम्पत्ति और रेलयात्रियों की सुरक्षा में रेल सुरक्षा बल सदैव मुस्तैद रहती है । रेल सुरक्षा की चुनौतियों को निपटने के लिए इस पृथक कमांडो यूनिट 'कोरस' का गठन किया गया है । इस यूनिट को विश्वस्तरीय प्रशिक्षण और बेहतर सुविधाएं प्रदान की जायेंगी । यह विशेष यूनिट किसी भी चुनौतीपूर्ण स्थिति से निपटने में सक्षम है ।

      इस अवसर पर बोलते हुए रेल सुरक्षा बल के महानिदेशक अरूण कुमार ने कहा कि देश के एक कोने को दूसरे कोने को जोड़ने में रेलवे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है । रेल सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने के लिए प्रशिक्षित श्रमबल वाले एक विशेष टास्क फोर्स की आवश्यकता महसूस की जा रही थी । वर्तमान में रेलवे ऐसी अनेक परियोजनाओं पर काम कर रही है जो सामरिक और आर्थिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है । यह विशेष यूनिट 'कोरस' इन परियोजनाओं में आने वाली चुनौतियों के साथ-साथ रेलयात्रियों के समक्ष आने वाली कठिन परिस्थितियों से भी निपटने में सहयोगी होगी । कोरस के  कमांडो प्रख्यात संस्थानों से प्रशिक्षण प्राप्त हैं और किसी भी चुनौतीपूर्ण स्थिति से निपटने में सक्षम हैं । यह नई यूनिट रेल सुरक्षा को और अधिक मजबूत करेगी ।

 

  •