विक्रम सोलर का एक और 1 मेगावाट फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट
February 8, 2019 • Rakesh Raman

नई दिल्ली -  भारत के प्रमुख मॉड्यूल निर्माता और एक प्रमुख रूफटॉप सोलर एंड ईपीसी समाधान प्रदाता विक्रम सोलर ने हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड के लिए 1 मेगावाट फ्लोटिंग सोलर प्लांट का प्रोजेक्ट ऑर्डर हासिल किया है। यह संयंत्र राजस्थान के चित्तौड़गढ़ के पास घोसुंडा बांध में स्थित है। यह विक्रम सोलर का दूसरा फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट होगा, इससे पहले कंपनी ने देश में वर्ष 2015 में अपना पहला फ्लोटिंग सोलर प्लांट (कोलकाता, पश्चिम बंगाल में) स्थापित किया था।

यह परियोजना निजी क्षेत्र के लिए भारत में पहली मेगावाट-स्तर की फ्लोटिंग परियोजनाओं में से एक होगी। फ्लोटिंग प्लांट वाष्पीकरण के जरिए पानी के नुकसान को बचाने की दिशा में अपना योगदान देगा, जिससे पानी के संरक्षण के साथ ही शैवाल के विकास में कमी आएगी, पानी की स्वच्छता बनी रहेगी और स्पष्ट रूप से स्थल की भी बचत होगी।
स्थापना में विक्रम सोलर के 330 Wp 72-सेल ELDORA पॉलीक्रिस्टलाइन मॉड्यूल का उपयोग किया जाएगा, जिसकी जुलाई 2019 तक चालू होने की उम्मीद है। सौर संयंत्र से प्रति वर्ष 1993 मेगावाट ऊर्जा के उत्पादन की उम्मीद है, जो प्रति वर्ष 1400 घरों को बिजली देने में सक्षम होगा।
इस अवसर पर विक्रम सोलर के हेड- ईपीसी सेल्स, श्री रविन्द्र गोयल ने कहा, “इस परियोजना को निष्पादित करने के लिए हमें हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड द्वारा चुने जाने पर हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। एक अग्रणी सौर ईपीसी खिलाड़ी के रूप में, एक बार फिर से अग्रणी रूप में भारतीय सौर क्रांति में योगदान देने से हमें खुशी हो रही है। हरिजा ऊर्जा के प्रसार की दिशा में हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड के प्रयास की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि हम देश में इस तरह के और अधिक नए उद्योगों में भाग लेने के लिए तत्पर हैं।”
 
हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड के निदेशक परियोजना अरुण विजयकुमार ने कहा, “हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड ने हमेशा भारतीय हरित ऊर्जा बदलाव में योगदान दिया है और फ्लोटिंग सोलर प्लांट इसी तरह की एक पहल है। जब हमने एक अभिनव सौर स्थापना की दिशा में अपना पहला कदम उठाने का फैसला किया, तो हमने स्थापित समाधान प्रदाताओं में से एक को अपने साथ जोड़ने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि हम विक्रम सोलर लिमिटेड द्वारा परियोजना के सफल समापन के प्रति आशान्वित हैं साथ ही हम अपने व्यापारीक संबंधों को मजबूत करने के भी तत्पर हैं।”
 
विक्रम सोलर 950 मेगावाट EPC क्षमता के पोर्टफोलियो के साथ भारत में सौर क्रांति की शुरुआत कर रहा है, जिसमें कमीशन और निष्पादन, छत और भूतल- आधारित परियोजनाएं शामिल हैं। कंपनी ने हाल ही में एनटीपीसी के लिए भादला (राजस्थान) में 130 मेगावाट, चारांका (गुजरात) में जीआईपीसीएल के लिए 80 मेगावाट, कछलिया (मध्य प्रदेश) में आईएल एंड एफएस के लिए 40 मेगावाट कार्य को पूरा किया है  और यह हवाई अड्डे के प्रतिष्ठानों के लिए अपनी नवीन परियोजनाओं के लिए भी जाना जाता है। कंपनी ने सरकारी संस्थाओं जैसे- NTPC, APGENCO, GIPCL, BEL, BHEL, WBSEDCL, ISRO, IOCL, SBI और AAI आदि को हरित ऊर्जा समाधान प्रदान किया है