स्कूल का पंखा गिरने के दोषियों को सजा मिलनी चाहिये - मनोज तिवारी
July 12, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

      विश्वस्तरीय कमरे बनाने का दावा करने वाले केजरीवाल की पोल खुल गई है - विजेन्द्र गुप्ता

  नई दिल्ली।  भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी और दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष  विजेन्द्र गुप्ता ने आज अपनी मीडिया टीम के साथ सर्वोदय बाल विद्यालय त्रिलोकपुरी का निरीक्षण किया जहां कल पंखा गिरने से एक छात्र का सिर फट गया था। स्कूल का निरीक्षण करने के बाद भाजपा नेताओं जीटीबी अस्पताल गये और वहां भर्ती छात्र की स्वास्थ्य स्थिति का जायजा दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने लिया और ईश्वर से छात्र के स्वस्थ होने की कामना की। एक समाचार चैनल के मुताबिक जिस स्कूल को मनीष सिसोदिया वर्ल्ड  क्लास बता रहे थे उसमें दरारें आ चुकी हैं। इस अवसर पर प्रदेश मीडिया प्रभारी  प्रत्युष कंठ, सह-प्रभारी नीलकांत बख्शी एवं मीडिया प्रमुख  अशोक गोयल देवराहा, सह-प्रमुख  आनंद त्रिवेदी, जिलाध्यक्ष  कैलाश जैन,  ललित जोशी, पूर्व जिलाध्यक्ष  रामचरण गुजराती उपस्थित थे।

पत्रकारों से बातचीत करते हुये दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  मनोज तिवारी ने कहा कि स्कूल के छात्र की हालत गम्भीर बनी हुई है और आज हम उसी स्कूल के दौरा करने आये है। मैं जनप्रतिनिधि होने के नाते मामले की गम्भीरता को समझते हुये स्कूल के निरीक्षण के लिए आया हूं। जो घटना घटी है वो अत्यन्त दुखद है, लेकिन भविष्य में ऐसी घटना दोबारा न हो इसकी जिम्मेदारी हम सबकी है। स्कूल के निर्माण पर जो लागत की बात हो रही है, उस पर यह सवाल उठता है कि गुणवत्ता का ध्यान कितना दिया गया है। कमरों के दरवाजों से लेकर छत तक के निर्माण की गुणवत्ता में अनदेखी की गई है जिसका स्पष्ट उदाहरण कल गिरने वाला पंखा है जिससे घायल होकर छात्र की स्थिती नाजुक बनी हुई है।

    श्री तिवारी ने कहा कि स्कूल के कमरें की छत से पंखा गिरना एक बड़ी लापरवाही की ओर इशारा करता है। पंखा गिरने से छात्र के अंग विकृत हो सकते थे। नाक, कान, आंखो को नुकसान हो सकता था, दूसरे छात्र भी घायल हो सकते थे। स्कूल में आपदा प्रबंधन को लेकर हर जगह लेख तो लिखा हुआ है, लेकिन इस स्तर पर निर्माण नहीं किया गया है कि भूकम्प आने पर स्कूल की बिल्डिंग सुरक्षित रह सके और छात्रों को कोई नुकसान न हो, जितने लागत की बात की जा रही है उससे कम लागत में भूकंप विरोधी स्कूल बनाया जा सकता है। स्कूल के निरीक्षण से निर्माण में किये गये बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार स्पष्ट दिखाई देता है। दिल्ली भाजपा बड़े स्तर पर हुई इस लापरवाही के लिए जांच करने के साथ साथ दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करने का मांग करती है।  

 श्री तिवारी ने कहा कि मनीष सिसोदिया वर्ल्ड  क्लास का कमरा बनाने का दावा करते हैं लेकिन मौका देखने पर स्कूल में ऐसा कुछ भी नहीं है जो सामान्य स्कूलों से ऊपर हो। कड़ी-टुकड़ी से बनाये गये स्कूल के सहारे बच्चों को नहीं छोड़ा जा सकता क्योंकि इस तरह के स्कूल बनने से बच्चों की जान को खतरा है। उन्होंने कहा घायल बच्चे की हालत बेहद नाजुक है, इसके लिये जिम्मेदार लोगों को सजा मिलनी चाहिये। इसके साथ ही 5 लाख की जगह स्कूल बनाने में 25 लाख खर्च करने की बात हो रही है। जिस लागत की बात की जा रही है स्कूल बनाने में उससे पांच गुना कम खर्च किया गया है और स्कूल बनाने में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है। इसके दोषियों को सजा मिलनी चाहिये क्योंकि  यह छोटे-छोटे बच्चों के भविष्य का सवाल है।     
दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष  विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि शिक्षा के नाम पर केजरीवाल सरकार ने किस प्रकार लूट मचा रखी है और कितने बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार को अन्जाम दिया जा रहा है वो पंखा गिरने से घायल हुये छात्र की घटना के बाद दिल्ली की जनता के सामने आ गया है। स्कूल के निर्माण की गुणवत्ता को विश्व स्तरीय बताया गया, लेकिन परिणाम स्वरूप छात्र के सिर पर पंखा गिर गया। मैं केजरीवाल सरकार से पूछना चाहता हूं कि क्या यही विश्व स्तर के कमरे हैं जिनको हाईटेक बता कर दिल्ली के खजाने को खाली किया जा रहा है? केजरीवाल को जवाब देना होगा, क्योंकि दिल्ली के करोड़ों टैक्सपेयर्स के धन का भ्रष्टाचार के रूप में दोहन दिल्ली की जनता के साथ धोखा है।