हिंडन मोटल पर बनेगा व्यवसायिक केंद्र, एनसीआरटीसी को भेजा जीडीए ने प्रस्ताव
August 13, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो
गाजियाबाद। मेट्रो व आरआरटीएस को जोड़ने के लिए जीडीए ने हिंडन मोटल की जमीन को चुना है। इस स्थान को विकसित कर कामर्शियल सेंटर बनाया जाएगा। इस जमीन पर रेस्टोरेंट एवं मॉल का निर्माण होगा। नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (एनसीआरटीसी) ने इंटरचेंज प्वाइंट पर पर्याप्त जमीन मांगी थी। इस जमीन पर मॉल, रेस्टोरेंट, शोरूम और प्राइवेट आफिस बनाया जाएगा। 
 
बताया गया है कि जीडीए मोटल की जमीन देने को तैयार हो गया है। जीडीए ने 328 करोड़ रुपये में जमीन बेचने का डिमांड लेटर एनसीआरटीसी को भेज दिया है।
नया बस अड्डा के पास हिंडन मोटल जीडीए की 31 हजार वर्ग मीटर जमीन पर बना था। यह जमीन अभी तक यूपी टूरिज्म डिपार्टमेंट के पास लीज पर थी। इसकी लीज 2011 में खत्म हो गई थी। इसके बाद जीडीए ने सात हजार वर्ग मीटर जमीन मेरठ तिराहे के राउंड अबाउट और सड़क बनाने में इस्तेमाल कर ली। 
 
जीडीए के अधिकारियों का कहना है कि एनसीआरटीसी से इस जमीन का प्रयोग करने के बारे में पूछा गया था। एनसीआरटीसी ने यहां व्यावसायिक उपयोग के लिए जमीन मांगी थी। एनसीआरटीसी यहां मल्टी स्टोरी बनाएगा। इसमें मॉल रेस्टोरेंट शोरूम प्राइवेट आॅफिस बनेंगे। साथ ही रैपिड और मेट्रो के स्टेशनों को जोड़ने के लिए यहां इंटरचेंज प्वाइंट भी बनाया जाएगा। अधिकारियों का कहना है कि जिला प्रशासन के सर्कल रेट एक लाख 10 हजार रुपये प्रतिवर्ग मीटर के हिसाब से इसका रेट तय किया है। इसमें 22 फीसदी अतिरिक्त चार्ज जोड़ा गया है जिसमें कॉर्नर चार्जए लीज रेंट और फ्री होल्ड शामिल हैं।
 
जीडीए उपाध्यक्ष कंचन वर्मा ने बताया कि एनसीआरटीसी से इस जमीन का व्यवसायिक उपयोग करने के कारण जीडीए ने एनसीआरटीसी से बाजार भाव पर 328 करोड़ रुपये की मांग की है। इससे संबंधित डिमांड नोट भेजा गया है। जवाब आने के बाद जमीन बेचने की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाएगी।