गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल पंजाबी बाग में 70 लाख रूपये के घोटाले का पर्दाफाश
November 26, 2019 • Rakesh Raman

सूबेदार हरजीत सिंह की पत्नी जतिंद्रपाल कौर ने बैंक मुलाजिमों के साथ मिलकर किया घोटालाः काहलों

नई दिल्ली। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा चलाये जा रहे गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल पंजाबी बाग में 70 लाख रुपये के घोटाले का पर्दाफाश हुआ है और घोटाला कमेटी के पूर्व जनरल मैनेजर हरजीत सिंह सूबेदार की धर्म पत्नी जतिंद्रपाल कौर व बैंक मुलाजिमों द्वारा मिलकर किया गया है।

इस बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के लीगल सैल के चेयरमैन जगदीप सिंह काहलों, स्कूल के चेयरमैन सरबजीत सिंह विरक व मैनेजर मनजीत सिंह औलख ने एक संयुक्त प्रैस कान्फ्रेंस में बताया कि कमेटी के पिछले अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के के अध्यक्षता कार्यकाल में यह घोटाला गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल पंजाबी बाग में हुआ जो कि उनके खासम खास हरजीत सिंह की धर्म पत्नी जतिंद्रपाल कौर जो कि स्कूल में दफतर सुप्रिडैंट थी जिनके द्वारा किया गया। जतिंद्रपाल कौर द्वारा स्कूल की 70 लाख रूपये की राशि बैंक में जमा करवाने की बजाये बैंक मुलाजिमों की मिलीभगत से वाउचर पर बैंक की मोहर लगावा कर जमा दिखाई जाती रही जबकि यह सारा पैसा वह हड़प कर गई। स. काहलों ने कहा कि बहुत ही हैरानी वाली बात है कि घोटाला उसी पुराने तरीके से किया गया जैसा कि दिल्ली कमेटी में 51 लाख रूपये की नकली रसीदें लगा कर जी.के जुंडली द्वारा किया गया था।

स. काहलों ने बताया कि यह सारा घोटाला आडिट के दौरान सामने आया है। उन्होंने बताया कि घोटाले से ऐसा लगता है कि जी.के ने अपनी जुंडली के साथ मिल कर दिल्ली कमेटी व इसकी संस्थाओं को जम कर लूटा है। उन्होंने कहा कि जी.के व जुंडली के सारे घोटाले आडिट में सामने आ रहे हैं। घपले में बैंक स्टाफ का भी हाथ है और महिला मुलाजिम की शनाख्त भी की गई है। उन्होंने बताया कि सारी जांच के बाद पूरे मामले का खुलासा हुआ।

स्कूल के चेयरमैन सरबजीत सिंह विरक व मैनेजर मनजीत सिंह औलख ने बताया कि कुछ दिन पहले जब स्कूल की बैलंसशीट बन रही थी तो सी.ए ने प्रिंसिपल के ध्यान में लाया कि 2018-19 का 70 लाख रूपये जमा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि पंजाब और सिंध बैंक शाखा जो कि गुरु नानक पब्लिक स्कूल पंजाबी बाग में स्थित है की मोहर वाउचर पर लग जाती थी पर पैसा खाते में जमा नहीं होता था। यह बहुत ही संगीन मामला था। उन्होंने आगे बताया कि हमनें लीगल सैल को पत्र लिखा और बैंक के जोनल मैनेजर व उच्च अधिकारियों के ध्यान में मामला लाया।

स. काहलों ने कहा कि यहां यह भी उल्लेखनीय है कि जब तक सूबेदार की धर्मपत्नी स्कूल में दफतर सुप्रीडैंट के पद पर रही तब तक चोरीयां होती रहीं और उसके जाने के बाद चोरियां बंद हो गईं व अब घोटाले सामने आ रहे हैं।

उन्होंने बताया कि जतिंद्रपाल कौर के खिलाफ स्कूल प्रबन्धकों द्वारा पुलिस शिकायत पंजाबी बाग थाने में भी दर्ज करवाई गई है। उन्होंने कहा कि अगली कार्रवाई पुलिस द्वारा की जायेगी और साथ ही जी.एच.पी.एस सोसायटी को भी जतिंद्रपाल कौर के खिलाफ सख्त एक्शन लेने की अपील की है।