550वें प्रकाश पर्व सबंधी नगर कीर्तन ननकाणा साहिब ले जाने की दिल्ली कमेटी को मिली इजाज़त
July 12, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

#550 श्रद्धालू नगर कीर्तन के साथ जायेंगे पाकिस्तान

#करतारपुर में सुशोभित करने के लिए दिल्ली कमेटी तैयार करवा रही है सोने की पालकी

#सरना बंधुओें ने नगर कीर्तन के लिए इजाज़त के लिए अपलाई तक नहीं कियाय संगतों को कर रहे हैं गुमराह

नई दिल्ली। दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष स मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया है कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व सबंधी नगर कीर्तन जो 28 अक्तूबर को दिल्ली से ननकाणा साहिब के लिए रवाना होना है उस की अनुमति केन्द्र सरकार ने दिल्ली कमेटी को दे दी है और नगर कीर्तन में 550 श्रद्धालूओं के नगर कीर्तन में शामिल हो कर पाकिस्तान जाने की भी अनुमति दी है।

उन्होंने बताया कि 28 अक्तूबर को गुरु ग्रंथ साहिब जी पालकी में सुभायेमान हो कर संगतों को दर्शन देते हुए नगर कीर्तन के रूप में गुरुद्वारा बंगला साहिब से रवाना हो कर शंकर रोड, मोती नगर, राजा गार्डन, तिलक नगर, जनकपुरी से होते हुए

सीआरपीएफ  कैंप पश्चिम विहार,गुरु हरिकृष्न नगर पीरागढ़ी चौक  से हो कर पानीपत करनाल से चल कर कुरुक्षेत्र हरियाणा में पहला पड़ाव होगा। उन्होंने बताया कि दूसरा पड़ाव गुरुद्वारा श्री फतहिगढ़ साहिब और तीसरा पड़ाव सुल्तानपुर में होगा।

स सिरसा ने बताया कि 1 नवंबर को दरबार साहिब अमृतसर से निकल कर बागा बार्डर से नगर कीर्तन ननकाणा साहिब डेरा साहिब पहुँचेगा और 2 नवंबर को ननकाणा साहिब में समागम होंगे। दिल्ली कमेटी अध्यक्ष ने कहा कि इस नगर कीर्तन में शामिल होने वाली संगतों के सारे विवरण प्राप्त किये जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि हम गुरु नानक देव जी की जन्म शताब्दी सबंधी शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, तख्त श्री पटना साहिब और तख्त श्री हज़ुर साहिब ने संयुक्त तौर पर नगर कीर्तन दिल्ली से पाकिस्तान ले जाने के लिए मार्च महीने में ही अपलाई कर दिया था और केन्द्र सरकार ने सारी अनुमतियां लेने के बाद हमें इजाज़त दे दी है।

उन्होंने यह भी बताया कि दिल्ली कमेटी द्वारा एक सुंदर सोने की पालकी तैयार करवायी जा रही है। जो नगर कीर्तन के समय एक विशेष बस में चलेगी और संगतें पालकी साहिब के दर्शन करेंगी। यह पालकी करतारपुर साहिब में सुशोभित की जानी है।

दिल्ली कमेटी अध्यक्ष ने कहा कि यह बात बड़े अफसोस से कहनी पड़ रही है कि जहां नगर कीर्तन के लिए लोगों में भारी उत्साह है वहीं परमजीत सिंह सरना ने जो पिछले समय के दौरान दो संगराद, दो शहीदी दिवस और दो प्रकाश पर्व मनाने का और संगतों को दो फाड़ करने का रुझान शुरु किया था उसी रुझान के तहत ही वह अब दो नगर कीर्तन निकालने की बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरना पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का दिया हुआ निमंत्रण लेकर लोगों को गुमराह कर रहे हैं असल में उन्होंने आज तक नगर कीर्तन की इजाज़त के लिए अपलाई भी नहीं किया।

स सिरसा ने कहा कि नगर कीर्तन पाकिस्तान ले जाने के लिए सबसे पहले इजाज़त केन्द्र सरकार से लेनी जरुरी है और उस के बाद दिल्ली सरकार, हरियाणा सरकार और पंजाब सरकार। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार से इजाज़त लेकर देने का काम केन्द्र सरकार का है। दिल्ली कमेटी अध्यक्ष ने बताया कि हमनें यह इजाज़त केन्द्र सरकार से प्राप्त कर ली है। उन्होंने यह भी कहा कि गुरु साहिब के स्वरूप वाली पालकी साहिब व अन्य गाड़ियों का काफ़िला एक देश से दूसरे देश जाना है इसके लिए दोनों देशों की अनुमति के साथ ही नगर कीर्तन निकाला जाना संभव है।

स सिरसा ने कहा कि यह नगर कीर्तन जो हम लेकर जा रहे हैं यह कोई व्यक्ति विशेष नहीं ले जा रहा बल्कि शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, दिल्ली कमेटी, तख्त श्री पटना साहिब कमेटी व्  तख्त श्री हजुर साहिब कमेटी द्वारा सयुक्त तौर पर ले जाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो भी श्रद्धालू नगर कीर्तन में शामिल होना चाहते हैं वह अपना पासपोर्ट और जरुरी दस्तावेज दिल्ली कमेटी के पास 30 जुलाइ्र्र तक जमा करवा सकते हैं।

इस मौके पर दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव स हरमीत सिंह कालका ने कहा कि संगतों को चाहिए कि जब उनके पास कोई नगर कीर्तन में पाकिस्तान जाने का निमंत्रण लेकर आता है तो उनसे भारत सरकार की परमिशन मिले होने का सबूत जरुर मांगे।