भलस्वा लैंडफिल साइट में जैविक खनन हेतु ट्रॉमल मशीन का उद्घाटन
October 22, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

दिल्ली प्रदेश भाजपा, अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी व सांसद  हंसराज हंस ने आज उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा स्थापित भलास्वा लैंडफिल साइट पर जैविक खनन व कूड़े को पृथक्कीकरन एवं निस्तरण करने के लिए चौथी ट्रॉमल मशीन का उद्घाटन किया। इस मौके पर विशेष अतिथि के रूप में उत्तरी दिल्ली के महापौर अवतार सिंह; दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता, उपमहापौर  योगेश वर्मा व स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश उपस्थित थे।

ट्रॉमल मशीन में चार भाग है जिनसे लगभग 300 मीट्रिक टन कूड़े को प्रतिदिन निस्तारित किया जायेगा। इस मशीन में लगे बैलेस्टिक सेपरेटर से कूड़े को तीन भागों में अलग किया जायेगा। प्रथम वर्ग में हल्के अपशिष्ट जैसे प्लास्टिक, पॉलीथीन तथा कपड़े आदि, दूसरे वर्ग में भारी अपशिष्ट जैसे शीशा एवं धातु से बने पदार्थ एवं तीसरे वर्ग में मिट्टी को पृथकीकृत किया जायेगा। पृथकीकरण के पश्चात कुछ अपशिष्ट को ऊर्जा निर्माण हेतु नरेला बवाना वेस्ट टू एनर्जी प्लांट एवं कुछ को बुराड़ी स्थित मलबा संसाधन प्लांट भेजा जायेगा जिससे ईंटे, टाइल्स् आदि उपयोगी वस्तुओं का निर्माण किया जायेगा। इनके अलावा जो अपशिष्ट बचेगा उसे इस नई तकनीक पर आधारित इस मशीन द्वारा अपशिष्ट को निस्तांतरित करके मिट्टी में परिवर्तित किया जायेगा।

सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा कूडे़ के पहाड को हटाने का यह कार्य काफी सराहनीय है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कूडे़ का पहाड़ एक शर्म की बात है मगर हमारे दिल्ली के मुख्यमंत्री को इस बात कि कोई भी चिंता नहीं है। उन्होंने कहा कि निगम को फंड दिल्ली सरकार से मिलते है मगर दिल्ली सरकार निगम का फंड रोक कर बैठी है यहा तक कि वे सफाई कर्मचारियों के वेतन का पैसा भी निगम नहीं दे रहे है। उन्होंने कहा कि इस पूरी परियोजना में उत्तरी दिल्ली नगर निगम का फंड लगा है,दिल्ली सरकार ने इस के लिए कोई मदद नही कि है, दिल्ली के मुख्यमंत्री चाहते है कि दिल्ली के लोग प्रदूषण से मरे। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के पास फंड का अभाव है परंतु इसके निगम दिल्ली के नागरिकों को बेहतर से बेहतर सुविधा दे  रही है।  

सांसद हंसराज हंस ने कहा कि उत्तरी दिल्ली क्षेत्र में स्थित भलास्वा लैंडफिल साइट पर निरंतर बढ़ता हुआ कूड़े का पहाड़ बहुत गंभीर विषय है जिसके स्थायी समाधान के लिए वे स्वयं उत्तरी दिल्ली नगर निगम के साथ मिलकर कार्य कर रहें है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आधुनिक तकनीक पर आधारित यह मशीन इस विकराल समस्या का निश्चित रूप से स्थायी समाधान करेगी।

महापौर अवतार सिंह ने कहा कि उत्तरी दिल्ली निगम के प्रयासों से ही यह संभव हो पाया कि भलस्वा लैंडफिल साइट में निरंतर बढ़ रहे कूड़े के पहाड़ को कम करने के लिए ट्रॉमल मशीन लगाई गई है जो निश्चित रूप से उत्तरी दिल्ली नगर निगम का एक सकारात्मक प्रयास है। महापौर ने इसके लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम के सभी वरिष्ठ अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि एक साल की समयावधि में यह कूडे़ का पहाड खत्म किया जाएगा।  

दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि इस कार्य के लिए उत्तरी दिल्ली नगर निगम के प्रयासों को शब्दों में ब्यां नही किया जा सकता। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के स्वच्छ भारत अभियान के बाद लोगो में स्वच्छता के प्रति काफी जागरूकता आई है। उन्होंने कहा कि यदी हम कूड़े को घर में ही हरे न नीले कूडे़दान में अलग-अलग करले तो कूड़े कि इस समस्या का समाधान कर सकते है।

स्थायी समिति के अध्यक्ष जय प्रकाश ने बताया कि चौथी ट्रॉमल मशीन का उद्घाटन किया गया है। 7 अन्य ट्रॉमल के लिए मशीनरी एंव उपकरण भी आ चुके है जिन्हे स्थापित करना है। उन्होंने बताया की कि कुल 15 ट्रॉमल मशीने प्रथम चरण में लगायी जाएगी ताकि कूड़े के निस्तारण का कार्य गति से हो सके।

इस अवसर पर पूर्व महापौर प्रीति अग्रवाल, उपाध्यक्ष स्थायी समिति विपिन मल्होत्रा, सिविल लाईंस वार्ड समिति के अध्यक्ष,  सुरेंद्र खर्ब, नरेला वार्ड समिति के अध्यक्ष सुनीत चौहान, रोहिणी वार्ड समिति के अध्यक्ष मनीष चौधरी, पार्षद, सुजीत ठाकुर, पूर्व विधायक, निलदमन खत्री अति.आयुक्त संदिप जैक्स, प्रमुख अभियंता के.पी सिंह, मुख्य अभियंता प्रदीप बंसल, उपायुक्त सिविल लाईंस पंकज कुमार व निगम के अन्य अधिकारी उपस्थित थे। इस कार्यक्रम कि अध्यक्षता, पूर्व उपमहापौर व स्थानीय पार्षद विजय भगत ने की।