बिजली बिल पर खुल गई केजरीवाल सरकार की पोल -मनोज तिवारी
January 4, 2020 • राकेश रमण

दिल्ली। विधान सभा चुनाव के मुहाने पे खड़ी दिल्ली सरकार आये दिन मुफ्त की योजना घोषित कर रही है तो वहीँ दूसरी ओर भाजपा उनकी हर योजना की हवा सूचना के आधार तथा तथ्यों पर निकालने का कार्य कर रही है।जहाँ तक कांग्रेस का सवाल है तो वो अभी ड्राइंग रूम पॉलिटिक्स पर ही है बताया जा रही है कि अब वो भी सड़कों पर निकले की तयारी कर रहे हैं हालाँकि  इस कड़ी में आज पूर्वांचलियों का एक सम्मलेन आयोजित की गई।

कल से भाजपा मेरी दिल्ली मेरा सुझाव कार्यक्रम को लेकर दिल्ली के कोने कोने में पहुँचने का प्रयास कर रही है लेकिन इस क्रम में भाजपा के हाथ में दिल्ली की जनता ने 200 यूनिट से कम की बिजली के बिल थमा दिए हैं जिसमे 200 से लेकर 400 रूपये चार्ज किये गए हैं। आज इन बिलों के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी सांसद प्रवेश वर्मा व राष्ट्रीय सचिव केजरीवाल सरकार पर हमलावर दिखे। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल केवल और केवल झूठ की राजनीति करते हैं।काम कम प्रचार ज्यादा इनका मूलमंत्र है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने तो यहाँ तक कह दिया कि यदि केजरीवालजी के झूठों को इक्कठा किया जाय तो मल्टीस्टोरी बिल्डिंग भी कम पड़ जाय।उन्होंने कहा कि इधर कुछ महीनो से बिजली बिल का शून्य हो जाना एक बड़ा घोटाला है क्योंकि किसी भी योजना को लागू करने के पूर्व उस योजना का कुछ नाम रखा जाता है जैसे उज्ज्वला योजना ,उदय योजना आदि लेकिन बिजली बिल को लेकर न कभी कोई योजना बनी न इस सन्दर्भ में कुछ कहा गया। इसका सीधा अर्थ है कि चुनाव सामने देखकर बिजली कम्पनिओं से साठगांठ कर बिल कम की जा रही है जिसे किसी भी वक़्त वसूला जा सकेगा और ये तय है कि  जिस प्रकार केजरीवालजी वादे करने के उपरांत पलट जाते हैं इस पर भी वो पलटी मारेंगे क्योकि उनकी ये नियति में है।

           बिजली कंपनियों के साथ साठगांठ की शंका इसलिए जाहिर की जा रही है क्योंकि सूचना के आधार से मिली जानकारी के अनुसार केजरीवाल सरकार ने अबतक 8500 करोड़ की सब्सिडी दी है जबकि एक क्वार्टर की सब्सिडी अभी भी दी जानी  है। यानि कुल मिलाकर 9000 करोड़ की राशि सब्सिडी में खर्च करके दिल्ली के टैक्स देने वालों से एक प्रकार का धोखा है ये कहते हुए मनोज तिवारी ने कहा की दिल्ली की जनता विधान सभा चुनाव में उन्हें सबक सिखाएगी।