साक्षरता केंद्र की महिलाओ ने सीखे आत्मरक्षा के गुण
October 16, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो
नई दिल्ली।टाटा पावर डीडीएल के सहयोग से आराध्य संस्था द्वारा बादली क्षेत्र में चलाये जा रहे महिला साक्षरता केंद्र की महिलाओ व उनके परिवार की बच्चियों को दिल्ली पुलिस की परिवर्तन सेल की ओर से 100 महिलाओ और लड़कियों को दस दिन की आत्मरक्षा की ट्रेनिंग दी गई।
इस दौरान उन्हें राह चलते यदि कोई छेड़-छाड़ करता है तो वह ऐसे लोगो का सामना कैसे करे, कोई राह चलते उन्हें पकड़ ले तो वह क्या करे, वह अपनी सुरक्षा के लिए किन चीजो को साथ रखकर चल सकती है और भी बहुत सी जानकारी से अवगत कराया गया और छोटी बच्चियों को मुख्य रूप से बताया गया की कभी भी कोई व्यक्ति आपको कोई लालच दे, कोई खिलौना, टॉफी इत्यादि का लालच देकर अपने साथ चलने को कहे तो कभी नहीं जाना और यह बात अपने माता-पिता से जरूर बताये। इस ट्रेनिंग को पाकर लाभार्थियों में गजब का उत्साह देखने को मिला। इस अवसर पर आराध्य संस्था के सचिव उमेश राय ने महिलाओ से बात की तो उन्होंने कहा की ट्रेनिंग के बाद उनका आत्मविश्वास बढ़ा है उनका डर कम हुआ है। इस दौरान महिलाओ ने अभ्यास करके भी दिखाया। इस ट्रेनिंग के लिए एएसआई ओम शीला डीसीपी आॅफिस परिवर्तन सेल से उनकी भूमिका सराहनीय है। उन्होंने बहुत ही बारीकी से महिलाओ और लड़कियों की काउन्सलिंग के साथ-साथ उन्हें ट्रेनिंग भी दी। उनकी सहयोगी हेड कॉन्स्टेबल गीता बादली थाना ने पूरी कार्यशाला में उनका पूरा साथ दिया और ट्रैनिग पूर्ण करने वाले सभी लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र वितरित करने के उपलक्ष्य पर हेड कॉन्स्टेबल सूर्यकांत शर्मा पुलिस स्टेशन बादली से और टाटा पावर डीडीएल से पूनम भाटिया और पल्लवी जी ने शिरकत की और महिलाओ व बच्चियों का हौसला बढ़ाया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में डब्ल्यूएलसी की शिक्षिकाओं व केंद्र संचालिका नीलम और कमलेश की अहम भूमिका रही है। आराध्य संस्था दिल्ली पुलिस व टाटा पावर और डब्ल्यूएलसी की शिक्षिकाओं का धन्यवाद करता है।