वायु प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई में पूर्वी दिल्ली नगर निगम सक्रिय
October 16, 2019 • प्रथम स्वर ब्यूरो

             # बेडे़ में शहरी विकास कोष से शामिल र्हुइं 70 करोड़ की लागत की मशीनें

दिल्ली। दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदुषण से निपटने के लिए पूर्वी दिल्ली नगर निगम द्वारा शहरी विकास कोष के अन्तर्गत लगभग 70 करोड़ की लागत से नई तकनीक पर आधारित  मशीनों को अपने बेड़े में शामिल किया है। उद्योग सदन, पटपड़गंज स्थित पूर्वी दिल्ली नगर निगम मुख्यालय से आज इन 50 मशीनों को हरी झंडी देकर रवाना किया गया। बता दें कि आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा ठोस कचरा प्रबंधन एवं बढ़ते वायु प्रदुषण को नियंत्रित करने हेतु पूर्वी निगम को अत्याधुनिक मशीने खरीदने के लिए 70 करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई थी जिसके द्वारा वाॅटर स्प्रींकलर मशीन, सुपर सकर मशीन, सक्शन एवं जेटिंग मशीन, तथा ऑटो माउंटेड लिटर पिक्कर आदि मशीने खरीदी गईं हैं। इस मौके पर सांसद मनोज तिवारी तथा गौतम गंभीर विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इनके अलावा पूर्वी दिल्ली की महापौर,  अंजु कमलकांत; उप-महापौर संजय गोयल; स्थायी समिति अध्यक्ष संदीप कपूर; नेता सदन निर्मल जैन; पर्यावरण प्रबंधन सेवा समिति के अध्यक्ष  के.के अग्रवाल के अलावा पार्षदगण, वरिष्ठ अभियंता अरूण कुमार एवं अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

महापौर अंजु कमलकांत ने जानकारी देते हुए बताया कि वायु प्रदुषण कम करने के लिए पूर्वी दिल्ली नगर निगम गंभीर है। उन्होंने बताया पूर्वी निगम द्वारा 975 लाख रुपये की लागत से 40 वाॅटर स्प्रिंकलर मशीने खरीदी गईं है जिससे  पानी का छिड़काव करके धूल के कणों के कारण होने वाले प्रदुषण को कम किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक टैंक पर 9000 लीटर की क्षमता वाला पानी का टैंक लगा है और बटन दबाते ही पानी छिड़कने का सुविधा उपलब्ध है।

इसके अलावा स्थायी समिति अध्यक्ष संदीप कपूर ने बताया कि 490 लाख रुपये की लागत से 2 सुपर सक्शन मशीने खरीद कर जनसेवा में समर्पित की गईं है जिनके द्वारा आसानी से और कम समय में नालों से गाद निकाली जा सकेगी। संदीप ने बताया कि 340.80 लाख रुपये की लागत से 6 सक्शन एवं जैटिंग मशीने भी खरीदी गई हैं। इसमें 3-3 मशीनों को शाहदरा दक्षिणी तथा शाहदरा उत्तरी क्षेत्र में जल-भराव की स्थिति से निपटने हेतु लगाया जायेगा।

स्थायी समिति के अध्यक्ष ने बताया कि पूर्वी दिल्ली नगर निगम द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के तहत 50 लाख रुपये की लागत 4 ऑटो माउंटेड लिटर पिक्कर खरीदे गए हैं जिसमें 2-2 मशीने दोनों जोनो के तंग एवं व्यस्त क्षेत्रों में साफ सफाई हेतु लगाई गयीं हैं। उन्होंने बताया कि यदि यह प्रयास सफल रहता है तो पूर्वी निगम द्वारा 16 अतिरिक्त ऑटो माउंटेड लिटर पिकर खरीदने की योजना है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक ऑटो  माउंटेड लिटर पिकर में 3 बैग्स हैं जिसकी क्षमता एक क्यूबिक मीटर क्षमता है।

नेता सदन निर्मल जैन ने बताया पूर्वी निगम द्वारा 6 मैकेनिकल रोड स्वीपर मशीन का इस्तेमाल भी किया जा रहा है साथ घरेलू कचरे  से खाद बनाने हेतु 1 टन की क्षमता वाली 10 कम्पोस्टर मशीने भी लगाई गईं हैं। इसके अलावा 5 टन प्रतिदिन की क्षमता वाले 2 बायोगैस संयत्र  मुल्तानी मोहल्ला, गीता काॅलोनी, एवं शास्त्री पार्क में स्थापित किए गये हैं जिससे गैस द्वारा बिजली बनायी जायेगी।उन्होंने बताया कि 100 टन प्रतिदिन क्षमता वाले बायोगैस संयत्र, 20 फिक्सड कोम्पेक्टर ट्रांसफर स्टेशन, 2 एक्सकेवेटर, 16 हल्के वाहन, 25 ई-कार्ट, 10 ट्रेक्टर, 4 बुल्डोजर तथा एक 10 टन प्रतिदिन की क्षमता वाला खाद संयंत्र की भी खरीद की जायेगी।